advani-modi

नयी दिल्ली. एक तरफ जहाँ आज बाबरी विध्वंस मामले Babri Demolition Case) में लखनऊ (Lucknow) की विशेष अदालत ने अपना फैसला दे दिया  है। वहीं इस फैसले पर  बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी (Lal Krishna Adwani) और मुरलीमनोहर जोशी (Murli Manohar Joshi) ने इस फैसले का स्वागत किया है। बता दें कि आज के इस फैसले में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत सभी 32 लोगों को बरी कर दिया गया है। 

इस फैसले पर वयोवृद्ध बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि, “बहुत दिनों के बाद कुछ अच्छा समाचार सुनने को मिला है, बस इतना ही कहूँगा कि जय श्री राम।” इसके साथ ही फैसले के बाद लालकृष्ण आडवाणी ने उनके घर के आये और  इकट्ठे हुए समर्थकों के लिए मिठाई भी बंटवाई। इसके सस्थ ही उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं और वकीलों काभी शुक्रिया अदा किया है ।

मुरली मनोहर जोशी भी फैसले से खुश 

इस फैसले के बाद बीजेपी नेता मुरली मनोहर जोशी ने अपने बयान में कहा कि, वे इस फैसले का स्वागत करते हैं। उनका यह भी कहना था कि राम मंदिर आंदोलन उनके लिए एक बड़ा  ऐतिहासिक पल था।

इसके साथ ही उनका कहना था कि, “आज एक ऐतिहासिक निर्णय सुनाया, मैं तमाम अधिवक्ताओं को जिन्होंने शुरुआत के दिन से ही हर स्तर पर इस मामले में सही तथ्यों को न्यायलय के सामने रखा का आभार व्यक्त करता हूँ । ये उनकी परिश्रम से और लोगों की गवाही से ये फैसला सामने आया है।” उनका यह भी कहना था कि “राम मंदिर आंदोलन अपने आप में एक काफी अहम वक्त था, इसका उद्देश्य देश की मर्यादाओं को विश्व और भारतवासियों के सामने रखना था। अब जब राम मंदिर का निर्माण भी होने जा रहा है,तो यही कहूँगा कि  ‘जय जय सिया राम, सबको सन्मति दे भगवान’।”

सीबीआई (CBI)  की विशेष अदालत (Court) ने छह दिसम्बर 1992 को अयोध्या (Ayodhya) में बाबरी मस्जिद ढहाए (Babri Masjid Demolition) जाने के मामले में बुधवार को बहुप्रतीक्षित फैसला सुनाते हुए सभी आरोपियों को बरी कर दिया है।