ghosh

कोलकाता.  भारतीय जनता पार्टी (BJP) की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने शुक्रवार को इस बात पर आश्चर्य प्रकट किया कि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (TMC) लंबे समय से राज्य में रह रहे पड़ोसी राज्यों के औद्योगिक कर्मियों को कैसे ‘बाहरी’ बताती है। घोष ने हुगली जिले में जूट मिल वाले क्षेत्र चंपादानी में एक सभा को संबोधित करते हुए दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस राजनीति कारणों से ‘बाहरी’ का सिद्धांत लायी है।

उल्लेखनीय है कि पिछले महीने भाजपा ने संगठन की दृष्टि से राज्य को पांच क्षेत्रों में बांटा था और हर क्षेत्र का प्रभार केंद्रीय नेताओं को दिया था। तृणमूल कांग्रेस ने भगवा पार्टी पर ‘बाहरियों’ –राज्य के बाहर के नेताओं को चुनाव से संबंधित कार्यों में लगाने का आरोप लगाया और कहा कि ऐसे लोगों को जमीनी हकीकत और बंगाल के मूल्यों का भान नहीं है। राज्य में विधानसभा चुनाव अगले साल अप्रैल-मई में है।

घोष ने अपने शुक्रवार को अपने भाषण में सवाल किया कि क्या ‘‘बिहार जैसे पड़ोसी राज्यों के लोग , जो वर्षों से यहां रह रहे हैं, को तृणमूल बाहरी बताएगी।” उन्होंने कहा, ‘‘तृणमूल कांग्रेस राजनीतिक कारणों से बाहरी का मुद्दा उठा रही है। काम के लिए राज्य से बाहर गये बंगाली युवकों के साथ यदि ऐसा ही सवाल उठता है तो फिर क्या होगा?” भाजपा नेता ने सिंगूर में ऑटोमोबाइल संयंत्र नहीं लगने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने उन पर राज्य में रोजगार का एक भी अवसर नहीं सृजित कर पाने का आरोप भी लगाया।