नागरिकता संशोधन बिल पास होने से सोशल मीडिया पर मचा घमासान

नई दिल्ली, सोमवार को घंटों तक जारी बहस के बाद आख़िरकार देर रात 'नागरिकता संशोधन बिल' लोकसभा में पास हो गया. इस बिल के पक्ष में 311 तो इसके विपक्ष में 80 मत पड़े . गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को

नई दिल्ली, सोमवार को घंटों तक जारी बहस के बाद आख़िरकार देर रात ‘नागरिकता संशोधन बिल’ लोकसभा में पास हो गया. इस बिल के पक्ष में 311 तो इसके विपक्ष में 80 मत पड़े . गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को लोकसभा में बिल पेश किया, इस बिल को लेकर भारी हंगामा हुआ. बिल का प्रस्ताव सदन में रखने पर विपक्षी दलों खासकर कांग्रेस ने जोरदार विरोध किया. जबकि महाराष्ट्र में बीजेपी से अलग होने वाली शिवसेना ने इस बिल के पक्ष में मतदान किया.
 
लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल को मंजूरी मिलने के बाद अब माना जा रहा है कि केंद्र सरकार इसे मंगलवार को राज्यसभा में भी पास करा सकती है.इस बिल का जहां बड़ी संख्या में लोग समर्थन कर रहे तो कुछ इसके विरोध में भी हैं. सोशल मीडिया पर इस बिल को लेकर काफी बातें हो रही है. इस बिल को लेकर अनेक लोगों ने चिंता व्यक्त की है. राजनीती या फिल्मजगत, हर जगह बस ‘नागरिकता संशोधन बिल’ के बारे में बातें हो रही है.
 
लोकसभा में बिल पारित होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस पर खुशी जाहिर की. उन्होंने ट्वीट किया, एक अच्छी और व्यापक बहस के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 विधेयक पारित हो गया. मैं विभिन्न सांसदों और दलों को धन्यवाद कहता हूं जिन्होंने विधेयक का समर्थन किया.  यह विधेयक भारत के सदियों पुराने लोकाचार और मानवीय मूल्यों में विश्वास के अनुरूप है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नागरिकता संशोधन विधेयक को राष्ट्र हित में बताया है.  

लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल को जनता दल (यू) द्वारा समर्थन करने पर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने सोमवार को निराशा जाहिर की है. उन्होंने ट्वीट कर कहा है, "नागरिकता संशोधन बिल को जेडीयू ने समर्थन दिया है, इससे वो निराश हैं. ये बिल धर्म के आधार पर नागरिकता में भेदभाव वाला है."

तो दूसरी तरफ एआईएमआईएम के नेता असद उद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर कहा है कि "आधी रात को एक झटके में, जब पूरी दुनिया सो रही थी, स्वतंत्रता, बराबरी, भाईचारा और इंसाफ़ के बारे में भारत के आदर्श के साथ धोखा किया गया."उन्होंने लिखा है, "मैं इसके ख़िलाफ़ काफ़ी लड़ा और वादा करता हूं कि ये लड़ाई अभी ख़त्म नहीं हुई है. निराशा को अपने क़रीब मत आने देना. निडर बने रहें, मज़बूत बने रहें."
 

कांग्रेस ने इस विधेयक को विभाजनकारी बताया है. वरिष्ठ कांग्रेसी नेता शशि थरूर ने कहा है, ”हमारे संविधान के लिए आज काला दिन है क्योंकि जो कुछ हुआ वो असंवैधानिक था. इसका स्पष्ट निशाना मुस्लिम समुदाय है, ये बहुत शर्म की बात है.”

असम के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तरुण गोगोई ने कहा है कि ‘असम के लिए ये बहुत ही ख़तरनाक़ है.’उन्होंने कहा, "हम बांग्लादेश के पड़ोसी हैं. ये बिल पूर्वोत्तर की आबादी के गठन, विरासत और संस्कृति पर उल्टा असर डालेगा."

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी ने ट्वीट किया है, "हम जिन्ना और सावरकर के सपने वाले इस विधेयक को ख़ारिज करते हैं. ये असंवैधानिक है और हमारे लोगों को बांटने वाला है. हर संभव मंच पर हम इसके ख़िलाफ़ लड़ना जारी रखेंगे."

तो दूसरी तरफ शिलॉन्ग सीट से बीजेपी के उम्मीदवार सनबोर शुल्लई  ने इस बिल का विरोध करते हुए कहा, ‘जब तक मैं जिंदा हूं तब त नागरिकता संशोधन बिल लागू नहीं हो सकता है’. सनबोर शुल्लई ने कहा कि, ‘मैं अपनी जान दे दूंगा. पीएम नरेंद्र मोदी के सामने आत्महत्या कर लूंगा, लेकिन मैं इस विधेयक को किसी भी सूरत में लागू नहीं होने दूंगा.

बॉलीवुड की अभिनेत्रियों ने इस बिल पर आपत्ति जताई है .  स्वरा भास्कर ने ट्वीट कर लिखा, ‘मैं नहीं चाहती कि एक करदाता के रूप में मेरी मेहनत की कमाई इस बीमार बिग्रेड NRC/CAB परियोजना के वित्तपोषण में खर्च हो!’ #CAB #CABAgainstConstitution #CABBill #NRCBill #IndiaAgainstCAB
 

स्वरा भास्कर के अलावा बिग बॉस की पूर्व प्रतियोगी और अभिनेत्री गौहर खान ने भी नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध किया.  उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘#CitizenshipAmendmentBil भारतीय लोकतंत्र के लिए दुखद दिन!’

अभिनेत्री ऋचा चड्ढा ने भी इस बिल पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया है.  एक ट्वीट को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, ‘ईश्वर हमें बचाओ’