Indian railway

    नई दिल्ली: भारत में कोरोना (Coronavirus Pandemic) का कहर जारी है। लगातार कोविड (COVID-19) से संक्रमित मामले लगातार बढ़ रहे हैं। कोरोना के चलते देश के कुछ राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown) जैसी पाबंदियां लागू हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने कुछ ट्रेनों को बंद करने का फैसला किया है। दरअसल रेलवे को इससे काफी घाटा उठाना पड़ रहा है। क्योंकि ट्रेनों में यात्री नहीं है और खाली जा रही हैं। 4 मई से रेलवे ने 14 ट्रेनों के परिचालन को बंद करने का फैसला किया है। 

    ज्ञात हो कि भारतीय रेलवे का कहना है कि स्क्रीनिंग के बाद ट्रेनों को अगले आदेश तक बंद किया जाएगा। साथ ही बिहार जाने वाली 23 ट्रेनों को 29 अप्रैल से ही अगले फैसले तक बंद किया गया है। इसी कड़ी में अब पूर्व रेलवे ने 14 ट्रेनों को बंद करने की घोषणा कर दी है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि इनमें कुछ ट्रेनें झारखंड के टाटानगर स्टेशन और बिहार के भागलपुर तक पहुंचती हैं। ये ट्रेनें अधिकतर पश्चिम बंगाल में ही चलती हैं। 

    उल्लेखनीय है कि जिन ट्रेनों का परिचालन 4 मई से बंद किया है उसमें आसनसोल से सियालदह, आसनसोल से टाटानगर और आसनसोल से दीघा, हावड़ा से सिउड़ी, दीघा से आसनसोल, टाटानगर से आसनसोल सहित कई ट्रेनों का समावेश है। 

    वहीं आसनसोल-दीघा वीकली ट्रेन का परिचालन 9  मई से अगले आदेश तक बंद रहेगा। इसी तरह आसनसोल से टाटानगर के बीच चलने वाली ट्रेन 4 मई से हर मंगलवार, शुक्रवार और रविवार को अब नहीं चलनेवाली है। जबकि जो 14 ट्रेनों को रद्द किया गया है उसमें 6 धनबाद के पड़ोस स्थित आसनसोल रेलवे स्टेशन से छूटती हैं ऐसे में इन ट्रेनों के कैंसिल होने से धनबाद के यात्रियों को दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है।

    दूसरी तरफ खबरें यह भी हैं कि जल्द ही हावड़ा-रांची शताब्दी एक्सप्रेस को रद्द करने की तैयारी है। क्योंकि इस ट्रेन से पर्याप्त संख्या में यात्री नहीं मिल रहे हैं। ये ट्रेनें अधिकतर समय में खाली ही चल रही हैं।