1 अप्रैल से बदल जाएंगे गैस सिलेंडर, PF और पेंशन से जुड़े अहम नियम! जानें सब कुछ

    नई दिल्ली. 1 अप्रैल से रसोई गैस, पीएफ, इनकम टैक्स,  (Income Tax) इंश्योरेंस, पेंशन से जुड़े नियमों में बदलाव होने जा रहा है। दरअसल, 1 अप्रैल से आम बजट 2021 में एंप्लॉयीज प्रोविडेंट फंड (EPF) और वॉलन्टरी प्रोविडेंट फंड (VPF) पर मिलने वाली ब्याज में टैक्स छूट की सीमा निर्धारित लागू होगी। साथ ही सिलेडंर की कीमतों, सरल पेंशन योजना नियमों में भी बदलाव होगा।  

    पीएफ के नियमों में 1 अप्रैल से होगा बदलाव

    नए वित्त वर्ष यानि 1 अप्रैल से एंप्लॉयीज प्रोविडेंट फंड (EPF) और वॉलन्टरी प्रोविडेंट फंड (VPF) पर मिलने वाली ब्याज के लिए टैक्स छूट की सीमा तय का प्रावधान है। नए नियमों के अनुसार एक साल में 2.5 लाख रुपये से अधिक कंट्रीब्यूशन करने पर अब मिलने वाली ब्याज की रकम पर नॉर्मल रेट्स (Provident Fund Rules)से टैक्स लिया जाएगा। यह नया नियम केवल एंप्लॉयीज के कंट्रीब्यूशन पर लागू होगा, एंप्लॉयर (कंपनी) के योगदान पर लागू नहीं होगा। बता दें कि, अभी तक पीएफ का ब्याज को टैक्स के दायरे से बाहर था। लेकिन अब टैक्स के दायरे में आने के बाद निवेशकों को सावधानी के साथ निवेश करना होगा।

    सुपर सिटीजन को मिलेगी छूट 

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट सत्र के दौरान घोषणा की थी कि, सुपर सिटीजन यानि 75 से अधिक उम्र के लोगों को इनकम टैक्स रिटर्न भरने की जरुरत नहीं होगी। लेकिन यह छूट सिर्फ उन्हें ही दी जाएगी जो पूरी तरह केवल पेंशन पर आधारित होंगे। 

    एलटीसी

    बजट ने एलटीसी को लेकर भी ऐलान किया गया है। बता दें कि, पिछली बार कर्मचारी कोरोना के कारण एलटीसी का फायदा नहीं लें पाए थे। अब सरकार उन्हें नगद भुगतान करेगी जो कि टैक्स के अंतर्गत नहीं आएगा। 

    सरल पेंशन योजना 1 अप्रैल से होगी शुरू 

    बीमा नियामक इरडा ने एक अप्रैल से जीवन बीमा कंपनियों को सरल पेंशन योजना की शुरुआत करने को कहा है। जिसके तहत बीमा कंपनियों को केवल दो एन्युटी (वार्षिकी) का विकल्प दिया जायेगा। इरडा द्वारा जारी दिशा-निर्देश के अनुसार सरल पेंशन प्लान के तहत मैच्योरिटी लाभ नहीं मिलेगा। हालांकि, इसमें 100 फीसदी खरीद मूल्य की वापसी का ऑप्शन होगा।

    रसोई गैस के दाम 1 अप्रैल से बदलेंगे

    तेल कंपनियां हर महीने की पहली तारीख को एलपीजी सिलेंडर (Cylinder Price) यानी रसोई गैस के दामों में बदलाव करती है। पिछले महीने भी सिलेंडर के दाम बढ़ाए गए थे।  अब देखना यह है कि, क्या इस बार भी कंपनियां सिलेंडर के दामों में बढ़ोत्तरी करती है या नहीं।