दिल्ली प्रदेश कांग्रेस प्रमुख ने ‘जासूसी’ मामले की जेपीसी जांच की मांग की

    नई दिल्ली:दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी (DPCC) के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार (Chowdhary Anil Kumar) ने विपक्षी नेताओं (Opposition leaders) कार्यकर्ताओं और पत्रकारों( Journalists) के फोन नम्बरों (Phone Number) सहित कम से कम 300 फोन नंबरों की जासूसी (Spying) करने के लिए इजराइली स्पाइवेयर ‘पेगासस’ के कथित इस्तेमाल की संयुक्त संसदीय समिति (JPC) से जांच कराने की बुधवार को मांग की।

    कुमार ने यह भी दावा किया कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी का नाम भी निगरानी वाले संभावित लक्ष्यों की सूची में है। उन्होंने दावा किया कि गांधी मौजूदा सरकार का “लक्ष्य” बने क्योंकि वह राफेल सौदे में भ्रष्टाचार, किसान आंदोलन और कोविड महामारी के कुप्रबंधन जैसे “असुविधाजनक मुद्दों” को लगातार उठाते रहे हैं। कुमार ने डीपीसीसी कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा, “मोदी सरकार को जेपीसी जांच के जरिए इस मुद्दे पर खुद को पाक-साफ साबित करना चाहिए।”

    कुमार ने विपक्षी नेताओं और अन्य प्रमुख नागरिकों के फोन की कथित जासूसी पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चुप्पी पर भी सवाल उठाया।  गौरतलब है कि एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया संगठन ने खुलासा किया है कि इजराइली जासूसी सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिये भारत के दो मंत्रियों, 40 से अधिक पत्रकारों, विपक्ष के तीन नेताओं सहित बड़ी संख्या में कारोबारियों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के 300 से अधिक मोबाइल नंबर हैक किए गए होंगे। (एजेंसी)