g-20

नयी दिल्ली. एक खबर के अनुसार सऊदी अरब (Saudi Arab) ने होने वाले जी-20 सम्मेलन से ठीक पहले रियाद के नोट पर छपे भारत  (India) के गलत मैप को अब वापस ले लिया है। सूत्रों के हवाले से खबर यह भी है कि ना केवल नोट को वापस लिया गया है, बल्कि उसकी छपाई को अब आगे के लिए बंद भी कर दिया गया है।

गौरतलब है कि भारतीय राजदूत औसाफ सईद ने बीते 28 अक्टूबर को सऊदी अरब के सामने रियाद में यह मुद्दा उठाया था। 20 रियाल के नोट में बनाए गए वैश्विक मैप में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को भारत से अलग दिखाया गया था।

क्या थी घटना:

दरअसल, सऊदी अरब ने अपने 0 रियाल बैंक नोट पर भारत का गलत मैप छापा गया था, जिसमें अविभाजित जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग दिखाया गया था। ख़ास बात यह थी कि इस नोट में 20 रियाल के नोट में बनाए गए वैश्विक मैप में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को भारत से अलग दिखाया गया था। जिस पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी। इस कड़ी आपत्ति पर अब सऊदी अरब ने इस नोट को वापस ले लिया गया है।

कैसा था यह बैंक नोट:

गौरतलब है कि इस 20 रियाल के विवादित बैंक नोट में एक तरफ किंग सलमान और जी-20 सऊदी समिट का लोगो था, तो वहीं दूसरी तरफ जी-20 देशों को वैश्विक मैप भी था। लेकिन इस मैप में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके), गिलगित-बाल्टिस्तान समेत पूरे जम्मू-कश्मीर को अलग देश के रूप में दिखाया गया था। इस पर विदेश मंत्रालय (एमईए) के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बीते गुरुवार को बताया था कि, “हमने सऊदी अधिकारियों के साथ भारतीय सीमाओं के गलत चित्रण का मामला उठाया था। रियाद के साथ ही नई दिल्ली में भी सऊदी के अधिकारियों से बात हुई। हमें सऊदी अधिकारियों द्वारा सूचित किया गया है कि उन्होंने इस मामले में हमारी चिंताओं को नोट किया है।”

इस बार का  जी-20 शिखर सम्मेलन होगा ‘वर्चुअल’:

बता दें कि इस बार के 15वें जी-20 शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता सऊदी अरब के किंग करेंगे। आने वाले 21-22 नवंबर तक होने वाले इस विस्तृत शिखर सम्मेलन को ‘सभी के लिए 21 वीं सदी के अवसरों का एहसास’ के मुख्य विषय पर आयोजित किया गया है। गौरतलब है कि कोरोना महामारी के चलते इस बार जी-20 सम्मेलन ‘वर्चुअल’ रूप में ही होना है।