इसरो PSLV-C51 से निजी कंपनियों के उपग्रहों को करेगा प्रक्षेपित

श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश). इसरो (ISRO) के अध्यक्ष के सिवन (Kailasavadivoo Sivan) ने गुरुवार को कहा कि भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी निजी क्षेत्र की इकाइयों को अंतरिक्ष का अन्वेषण करने में सक्षम बनाने के लिए भू-प्रेक्षण उपग्रह ‘आनंद’ का प्रक्षेपण करेगा, जिसे पूरी तरह एक स्टार्टअप ने तैयार किया है। उन्होंने ने अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत की क्षमताओं को उजागर करने वाले सुधारों की शुरुआत के लिए केंद्र सरकार की तारीफ करते हुए कहा, “अगला मिशन पीएसएलवी-सी51 (PSLV-C51) (ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान) हमारे लिए विशेष है। यह पूरे देश के लिए खास बात है।”

उन्होंने यहां संचार उपग्रह सीएमएस-01 (CMS-01) के सफल प्रक्षेपण के मौके पर मिशन नियंत्रण केंद्र के वैज्ञानिकों से कहा, “भारत सरकार ने पहल की है और आठ महीनों के भीतर पहला उपग्रह – ‘पिक्सल इंडिया’ नामक स्टार्टअप द्वारा तैयार किया गया उपग्रह ‘आनंद’, प्रक्षेपण के लिए तैयार है।”

इसरो प्रमुख ने कहा कि इसके साथ ही दो और उपग्रह ‘स्पेस किड्स इंडिया’ द्वारा तैयार किए गए ‘सतीश सैट’ और विश्वविद्यालयों के समूह द्वारा तैयार किए गए ‘यूनीसैट’ को भी अंतरिक्ष में भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से पीएसएलवी-सी51 देश में अपनी तरह का पहला मिशन होगा।

उन्होंने कहा, “इसके साथ भारत में अंतरिक्ष सुधारों के एक नए युग की शुरुआत होने जा रही है और करने जा रहा है और मुझे यकीन है कि निजी लोग इस कवायद को और आगे ले जाएंगे और पूरे देश को सेवाएं देंगे।”