Bennett new PM of Israel: PM Modi congratulated the new Prime Minister of Israel, Naftali, said this on Netanyahu's departure ...
File Photo

    नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Corona Virus) से अपने माता पिता को खोने वाले बच्चों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बड़ी घोषण की है। प्रधानमंत्री ने ‘पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रन’ (PM-Cares for Children) योजना की शुरआत की है, जिसके तहत ऐसे बच्चों को 10 लाख रुपए दिए जाएंगे।  इस बात की जानकरी शनिवार को प्रधानमंत्री कार्यालय (Prime Minister Office) ने दी। 

    पीएमओ ने बताया, “प्रधान मंत्री ने घोषणा की कि कोरोना के कारण माता-पिता या अभिभावक दोनों को खोने वाले सभी बच्चों को ‘पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रन’ योजना के तहत सहायता दी जाएगी। ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र में मासिक वजीफा और 23 साल की उम्र में पीएम केयर्स से 10 लाख रुपये का फंड मिलेगा।”

    सरकार बच्चों की करेगी देखभाल 

    प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा, “हमारे देश के भविष्य का समर्थन! कोरोना के कारण कई बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया। सरकार इन बच्चों की देखभाल करेगी, उनके लिए सम्मानजनक जीवन और अवसर सुनिश्चित करेगी। बच्चों के लिए PM-CARES बच्चों को शिक्षा और अन्य सहायता सुनिश्चित करेगा।

    बच्चा जो मिलेगी ये सुविधाएं:

    बच्चे के नाम पर सावधि जमा:

    PM CARES 18 वर्ष की आयु तक पहुंचने वाले प्रत्येक बच्चे के लिए 10 लाख रुपये का कोष बनाने के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन की गई योजना के माध्यम से योगदान देगा। यह कोष:

    • 18 वर्ष की आयु से मासिक वित्तीय सहायता / वजीफा देने के लिए उपयोग किया जाएगा, अगले पांच वर्षों के लिए उच्च शिक्षा की अवधि के दौरान अपनी व्यक्तिगत आवश्यकताओं की देखभाल के लिए और
    • 23 वर्ष की आयु तक पहुंचने पर, उसे व्यक्तिगत और व्यावसायिक उपयोग के लिए एकमुश्त के रूप में कॉर्पस राशि मिलेगी।

    स्कूली शिक्षा:

    10 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए

    • बच्चे को नजदीकी केन्द्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में डे स्कॉलर के रूप में प्रवेश दिया जाएगा।
    • अगर बच्चे का दाखिला किसी निजी स्कूल में होता है तो पीएम केयर्स से आरटीई के नियमों के मुताबिक फीस दी जाएगी।
    • PM-CARES स्कूल यूनिफार्म, पाठ्य पुस्तकों और नोटबुक पर खर्च के लिए भी भुगतान करेगा।

     11-18 साल के बच्चों के लिए:

    • बच्चे को केंद्र सरकार के किसी भी आवासीय विद्यालय जैसे सैनिक स्कूल, नवोदय विद्यालय आदि में प्रवेश दिया जाएगा।
    • यदि बच्चे को अभिभावक / दादा-दादी / विस्तारित परिवार की देखरेख में जारी रखा जाना है, तो उसे निकटतम केन्द्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में एक दिन के छात्र के रूप में प्रवेश दिया जाएगा।
    • अगर बच्चे का दाखिला किसी निजी स्कूल में होता है तो पीएम केयर्स से आरटीई के नियमों के मुताबिक फीस दी जाएगी।
    • PM CARESस्कूल यूनिफार्म, पाठ्य पुस्तकों और नोटबुक पर खर्च का भुगतान भी करेगा।

    उच्च शिक्षा के लिए सहायता:

    • मौजूदा शिक्षा ऋण मानदंडों के अनुसार भारत में व्यावसायिक पाठ्यक्रमों / उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण प्राप्त करने में बच्चे की सहायता की जाएगी। इस ऋण पर ब्याज का भुगतान PM CARES द्वारा किया जाएगा।
    • विकल्प के रूप में ऐसे बच्चों को केंद्र या राज्य सरकार की योजनाओं के तहत स्नातक / व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए शिक्षण शुल्क / पाठ्यक्रम शुल्क के बराबर छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। जो बच्चे मौजूदा छात्रवृत्ति योजनाओं के तहत पात्र नहीं हैं, उनके लिए PM CARES एक समान छात्रवृत्ति प्रदान करेगा।

    स्वास्थ्य बीमा:

    • सभी बच्चों को आयुष्मान भारत योजना (पीएम-जेएवाई) के तहत लाभार्थी के रूप में नामांकित किया जाएगा, जिसमें 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा कवर होगा।
    • 18 वर्ष की आयु तक के इन बच्चों के लिए प्रीमियम राशि का भुगतान PM CARES द्वारा किया जाएगा।