Bangladesh ordered evacuation of people from sensitive areas in the wake of the Amfan cyclone's knock
File Photo

    नई दिल्ली. आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh), ओडिशा (Odisha) और पश्चिम बंगाल (West Bengal) के लिए राहत की खबर है। दरअसल, चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ (Cyclon Jawad) कमजोर पड़ गया है। जी हाँ, भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ शनिवार को कमजोर होकर एक गहरे दबाव में बदल गया हैए। रविवार को पुरी पहुंचने तक यह और कमजोर होने की संभावना है।

    IMD ने कहा, “चक्रवाती तूफान जवाद एक गहरे दबाव में बदलकर कमजोर हो गया है। यह आज शाम 5:30 बजे पश्चिम बंगाल खाड़ी के ऊपर, विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश) से लगभग 180 किमी पूर्व-दक्षिण पूर्व में, गोपालपुर (ओडिशा) से 260 किमी दक्षिण में, पुरी (ओडिशा) से 330 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में और पारादीप (ओडिशा) से 420 किमी दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में केंद्रित था।”

    IMD ने कहा, “कल सुबह तक चक्रवाती तूफान जवाद कमजोर होकर दबाव में बदलने की संभावना है। इसके कल दोपहर के आसपास पुरी के पास पहुंचने की संभावना है। इसके बाद, यह उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर ओडिशा के तट के साथ पश्चिम बंगाल के तट की ओर बढ़ने तथा अगले 24 घंटों के दौरान इसके और कमजोर होकर निम्न दबाव के क्षेत्र में बदलने की संभावना है।”

    मौसम विभाग की भुवनेश्वर इकाई के निदेशक एचआर विश्वास ने कहा, “चक्रवाती तूफान जवाद अगले 12 घंटों तक जारी रहेगा। ओडिशा न्यूब हवा की अधिकतम गति 75 किमी/घंटा रहने का अनुमान है। साथ ही भारी से बहुत भारी वर्षा की संभावना है और किसी भी क्षेत्र में तूफान की चेतावनी नहीं है। जलभराव के कारण यातायात प्रभावित हो सकता है। केवल तट के निचले और संवेदनशील क्षेत्रों में ही निकासी की गई है। आज और कल मछुआरों को समुद्र में जाना मना है। आज हमारे तटीय ज़िलों में भारी बारिश होने की संभावना है। कल भी उत्तर तटीय ज़िलों में भी भारी बारिश हो सकता है फिर 6 तारीख से बारिश बिलकुल कम हो जाएगी।”

    उधर, एनडीआरएफ के डीजी, अतुल करवाल ने कहा, “NDRF की 52 टीमें तैनात हैं और 12 टीमें रिजर्व हैं। बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में ज़रूरत के मुताबिक टीम भेजी गई हैं। हमने पूरी तैयारी कर ली है। IMD की ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक चक्रवाती तूफान जवाद की ताकत पहले से कम हो रही है।”

    उन्होंने कहा, “भविष्यवाणी के मुताबिक आधी रात तक चक्रवात डीप डिप्रेशन में बदल जाएगा। कुछ क्षेत्रों में 3-7 सेमी वर्षा देखी गई है। अब तक कोई मोबाइल कनेक्टिविटी समस्या या सड़क रुकावट नहीं है।”