ICMR chief Balram Bhargava told four sources to avoid Corona, said- the need of the hour is to follow these rules

    नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) की तीसरी लहर (Third Wave) का संकट लगातार बरक़रार है। बीते तीन दिनों में रोजाना आ रहे मामलों में वृद्धि देखी जारही है। वहीं इसी बीच कोरोना संक्रमण से बचने के लिए आईसीएमआर प्रमुख बलराम भार्गव (Balram Bhargav) ने चार सूत्रों बताए हैं। गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि, “समय की मांग है कि, हम वैक्सीन की स्वीकृति, कोविड-उपयुक्त व्यवहार का रखरखाव, जिम्मेदार यात्रा, यदि आवश्यक हो, जिम्मेदार उत्सव मनाएं।”

    भार्गव ने कहा, “हम केरल में कुछ घटते संक्रमण देख रहे हैं। अन्य राज्य भी भविष्य के उछाल को टालने की राह में हैं। हालांकि, त्योहार निकट आ रहे हैं और जनसंख्या घनत्व में अचानक वृद्धि से वायरस फैलने के लिए अनुकूल वातावरण बनता है।”

    केरल में हालत लगातार गंभीर

    स्वास्थ्य सचिव राजीव भूषण ने कहा, “राष्ट्रीय स्तर पर रिपोर्ट किए गए कुल मामलों में से लगभग 68% केरल से हैं। केरल में 1.99 लाख से अधिक सक्रिय मामले हैं, जबकि 5 अन्य राज्यों – मिजोरम, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, महाराष्ट्र में 10,000 से अधिक सक्रिय मामले हैं।”

    उन्होंने कहा, “पिछले 11 सप्ताह के लिए साप्ताहिक सकारात्मकता दर 3% से कम है। 64 जिले अभी भी 5% से अधिक COVID सकारात्मकता की रिपोर्ट कर रहे हैं। वे चिंता के जिले हैं जहां इन क्षेत्रों में COVID के उचित व्यवहार, टीकाकरण, निगरानी की कड़ाई से निगरानी की जानी चाहिए।”

    देश में बनाएं 3,631 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित 

    भूषण ने कहा, “अभी देश में 3,631 PSA (प्रेशर स्विंग सोखना) प्लांट शुरू किए जा चुके हैं। जब ये प्लांट चालू हो जाएंगे, तो वे 4,500 मीट्रिक टन से अधिक मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध करा सकेंगे।”

    उन्होंने कहा, “इनमें से 1,491 संयंत्र केंद्रीय संसाधनों के माध्यम से चालू किए जा रहे हैं – वे 2,220 मीट्रिक टन से अधिक मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध कराएंगे। राज्यों और अन्य संसाधनों से बन रहे हैं 2,140 पौधे- वे 2,289 मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध कराएंगे।”

    मिजोरम चिंता का विषय

    नीति आयोग में सदस्य-स्वास्थ्य वीके पॉल ने कहा, “मिजोरम चिंता का विषय है। आने वाले 2-3 महीनों में, हमें किसी भी तरह के COVID मामलों में वृद्धि के प्रति सावधानी बरतनी होगी। हम सभी से आने वाली तिमाही में सावधान रहने का अनुरोध करते हैं। केरल में भी मामलों की संख्या स्थिर होते देख हम खुश हैं।”

    पहली प्राथमिकता सभी को दो डोज लगाना 

    कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने देने के सवाल पर भार्गव ने कहा, “वैज्ञानिक और सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा चर्चा में इस समय बूस्टर खुराक केंद्रीय विषय नहीं है। दो खुराक का पूर्ण टीकाकरण प्राप्त करना एक प्रमुख प्राथमिकता है। कई एजेंसियों ने सिफारिश की है कि एंटीबॉडी के स्तर को नहीं मापा जाना चाहिए।”