pakistan-china

    इस्लामाबाद. एक बड़ी खबर के अनुसार जहाँ एक तरफ जहां चीन (China) नियंत्रण रेखा (LAC) पर सैन्य गतिविधियों को थोडा और तेज कर रहा है। वहीं, अब दूसरी तरफ पाकिस्तान (Pakistan) भी श्रीनगर से 155 किलोमीटर की दूरी पर स्कर्दू एयरबेस (Skardu Airbase) को अपग्रेड करने में लगा हुआ है। जी हाँ हाल में ली गई सैटेलाइट तस्वीर में यह अहम् बात सामने आई है कि पाकिस्तानी एयरफोर्स ने स्कर्दू एयरबेस पर दूसरे रनवे का काम अब लगभग पूरा भी कर लिया है। पाकिस्तान ने इस एयरबेस पर JF-17 लड़ाकू विमानों की स्क्वाड्रन को तैनात भी किया हुआ है।

    चीनी लड़ाकू विमान भी हैं मौजूद! 

    दरअसल ओपन सोर्स इंटेलिजेंस एनॉलिस्ट Detresfa ने सैटेलाइट तस्वीर से पाकिस्तानी तैयारी का खुलासा किया है। इस अहम् मुद्दे पर Detresfa ने बताया है कि स्कर्दू एयरबेस पर दूसरे रनवे का काफी काम हो चुका है। पता हो कि बीते साल मई 2020 में Detresfa ने ही इस एयरबेस के अपग्रेडेशन को लेकर पहली बार जानकारी दी थी। ये भी बता दें कि पाकिस्तानी वायु सेना स्कर्दू एयरबेस के संचालन में चीन का भी साथ लेती है। एक्सपर्ट्स के मानें तो, इस एयरबेस पर चीन के कई बड़े एयरक्राफ्ट भी देखे जा चुके हैं।

    रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है स्कर्दू एयरबेस

    आपको बता दें कि पाक अधिकृत कश्मीर यानी POK के स्कर्दू में स्थित पाकिस्तानी वायुसेना के इस एयरबेस का रणनीतिक रूप से बड़ा ही महत्व है। यहां से श्रीनगर और लेह की दूरी मात्र 200 किलोमीटर है। यहां से उड़ान भरने के बाद पाकिस्तानी लड़ाकू विमान मुश्किल-ब-मुश्किल 5 मिनट में भारतीय वायुसीमा में प्रवेश कर सकता है। हालांकि, ये बात जुदा है कि भारतीय सेना की चौकस निगाहों से बचना यहाँ पाकिस्तान के लिए जरा भी मुमकिन नहीं है। 

    एक्सपर्ट्स की बड़ी आशंका

    इधर ख़बरों के अनुसार स्कर्दू के इस नए एयरपोर्ट पर अंडरग्राउंड फ्यूल स्टेशन और हथियार डिपो का भी निर्माण हुआ है। इतना ही नहीं पाकिस्तान के लिए यहां से चीन-पाक इकोनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) की भी निगरानी करना आसान साबित होगा। वैसे भी स्कर्दू में पाकिस्तान का सिविल एयरपोर्ट पहले से ही मौजूद है। अब ये भी आशंका है कि CPEC की सुरक्षा के लिए POK में स्थित इस एयरबेस का इस्तेमाल चीनी वायुसेना भी कर सकती है। अगर ऐसा होता है तो इससे भारत की चिंता निश्चित रूप से बढ़ेगी। फिलहाल स्कर्दू एयरबेस का जोरशोर से अपग्रेड कार्य हो रहा है।