SHAH-AMRINDER
File Pic

    नयी दिल्ली. सुबह की बड़ी खबर के अनुसार आज पंजाब (Punjab) के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Capt. Amrinder Singh) दिल्ली पहुंचकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) से एक महत्वपूर्ण मुलाकात करेंगे। इतना ही नहीं इस दौरान वह भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी नड्डा (J.P Nadda)) से भी आज मुलाकात करेंगे। सूत्रों की मानें तो वह बीजेपी के साथ मिलकर पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे पर भी चर्चा करेंगे।

    बता दें कि  राज्य में विधानसभा की कुल 117 सीटे हैं। वहीं कैप्टन का दिल्ली दौरा ऐसे वक्त में हो रहा है जब दिल्ली में किसान आंदोलन को खत्म करने पर संयुक्त किसान मोर्चा भी एक अंतिम फैसला लेगा। उधर कैप्टन की ओर से बढ़ी सियासी गतिविधियों को देखते हुए सहायद अब इस आंदोलन के खत्म होने के भी संकेत मिल रहे हैं।

    पहले भी मिले हैं कैप्टेन और अमित शाह 

    पता हो कि  कि कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब के मुख्यमंत्री रहने के दौरान भी दिल्ली पहुंचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलते रहते थे। इस दौरान कैप्टन की मुलाकात राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA ) अजीत डोभाल से भी होती थी। दोनों के बीच सीमा सुरक्षा समेत कई मुद्दों पर भी गहन बात होती थी।

    लेकिन धायण देने वाली बात ये है कि  इस दौरान कैप्टन BJP के किसी भी नेता से नहीं मिलते थे. ऐसे में आज जेपी नड्डा के साथ उनकी यह मुलाकात पहली मुलाकात ही होगी। उधर अब कांग्रेस की ओर से उन पर ये आरोप लगाए गए हैं कि वह मुख्यमंत्री रहते हुए भी BJP  के निकट थे।

    गठबंधन पर गृहमंत्री अमित शाह का बयान

    पता हो कि  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बीते शनिवार को कहा कि आगामी पंजाब विधानसभा चुनाव को देखते हए, गठबंधन को लेकर उनकी पार्टी BJP की पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और शिरोमणि अकाली दल के पूर्व नेता सुखदेव सिंह ढिंढसा के साथ भी एक बातचीत हो रही है।

    गौरतलब है कि CM की कुर्सी गवांने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह कांग्रेस से भी मतभेद के चलते अलग हो गए थे जिसके बाद से ही उन्होंने बीते दिनों पंजाब लोक कांग्रेस नाम की एक पार्टी का गठन भी कर लिया  था। उधर ढिंढसा ने भी शिरामणि अकाली दल से अलग होने के बाद शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) नाम से एक नई पार्टी का गठन कर चुके हैं। देखना ये है कि अब पंजाब विधान सभा चुनाव का ये ऊंट किस करवट बैठता है।