shares-bought-43-years-ago-today-priced-at-rs-1448-crore-the-company-refused-to-give

    नई दिल्ली. जिंदगी बहुत छोटी है और इस छोटी सी जिंदगी में कई उतार चढाव आते हैं, लेकिन जिंदगी रातों-रात भी बदल सकती है। ऐसा ही एक मामला केरल में उजागर हुआ है। कोच्चि में रहने वाले बॉबी जॉर्ज वलावी (Bobby George Valavi) ने 1978 में कुछ शेयर ख़रीदे थे। जिसकी कीमत आज 1,448 करोड़ रुपये हो गई है। 74 साल के बॉबी जॉर्ज को एक तरफ तो खुशखबरी मिली, तो वहीं दूसरी तरफ कंपनी उन्हें पैसे देने में आनाकानी कर रही है। बॉबी जॉर्ज और उनका परिवार फिलहाल यह साबित करने की कोशिश कर रहा है कि इन शेयरों के असली मालिक वहीं हैं।

    खरीदे थे 3500 शेयर

    दरअसल बॉबी जॉर्ज और उनके चार रिश्तेदारों ने मेवाड़ ऑयल एंड जनरल मिल्स लिमिटेड (Mewar Oil and General Mills Ltd) के 3,500 शेयर खरीदे थे। यह कंपनी उस समय उदयपुर की एक अनलिस्टेड कंपनी थी। जबकि बॉबी उस समय कंपनी के डिस्ट्रीब्यूटर थे। उन्होंने 70 और 80 के दशक में मेवाड़ ऑयल एंड जनरल मिल्स लिमिटेड के 3500 शेयर खरीदे थे। उस समय यह कंपनी बहुत बड़ी नहीं थी, बॉबी के पास कंपनी का 2.8 प्रतिशत हिस्सा था, जिसमें केवल 3,500 शेयर थे। कंपनी के संस्थापक-अध्यक्ष पीपी सिंघल और बॉबी उस समय दोस्त थे। उस समय कंपनी शेयर मार्केट में लिस्टेड नहीं थी। इसलिए, कंपनी द्वारा इन शेयरों पर कोई लाभांश नहीं दिया जाता था। बाद में बॉबी और उनका परिवार स्टॉक के बारे में भूल गया।

    बदल गया कंपनी का नाम

    2015 में जब बॉबी अपने कुछ पुराने दस्तावेजों को देख रहे थे तो उन्हें याद आया कि उन्होंने उदयपुर की एक कंपनी में निवेश किया था। बॉबी के पास उस कंपनी के शेयरों के असली दस्तावेज थे। उन्होंने उन शेयरों के बारे में और जानकारी जुटानी शुरू की। जिसके बाद बॉबी को तब पता चला कि मेवाड़ ऑयल एंड जनरल मिल्स लि. कंपनी का नाम अब बदलकर पीआई इंडस्ट्रीज (PI Industries) कर दिया गया है। इसके अलावा, कंपनी अब स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट है। बॉबी को यह भी पता चला कि कंपनी अब अच्छा मुनाफा कमा रही है।

    कंपनी ने बॉबी की साझेदारी स्वीकार करने से किया इंकार

    बॉबी ने अपने दस्तावेजों के रूप में शेयरों को डीमैट अकाउंट में बदलने की कोशिश शुरू कर दी और इसके लिए एक एजेंसी से संपर्क किया। जहां एजेंसी ने बॉबी को सीधे कंपनी से संपर्क करने को कहा। बॉबी ने जब कंपनी से संपर्क किया तो वह और उनका परिवार हैरान रह गया। कंपनी ने बॉबी को बताया कि वह कंपनी का भागीदार नहीं है और उन्होंने 1989 में अपने शेयर किसी को बेच दिए थे। बॉबी का आरोप है कि पीआई इंडस्ट्रीज ने डुप्लीकेट शेयरों का इस्तेमाल कर बॉबी के शेयर अवैध तरीके से किसी और को बेच दिए। ख़बरों की माने तो बॉबी को ठगा गया है।

    कंपनी ने किया संपर्क, बुलाया दिल्ली

    2016 में पीआई इंडस्ट्रीज ने बॉबी को एक समझौते के लिए दिल्ली आने को कहा। लेकिन बॉबी ने इससे इनकार कर दिया। इसके बाद कंपनी ने बॉबी के दस्तावेजों की जांच के लिए दो वरिष्ठ अधिकारियों को केरल भेजा। कंपनी ने स्वीकार किया कि बॉबी के दस्तावेज असली थे, लेकिन आगे कोई कार्रवाई नहीं की।

    बॉबी के अनुसार, उनके पास पीआई इंडस्ट्रीज के 42.8 लाख शेयर हैं और आज उनकी कीमत 1,448 करोड़ रुपये है। बॉबी का कहना है कि 1989 में शेयर खरीदने वाले 13 लोग कंपनी के सचिव जी सी जैन के परिचित है, या फिर दोस्त और रिश्तेदार हैं। बॉबी इस मामले को सेबी के पास ले गए हैं। हालांकि बॉबी ने कहा कि कंपनी ने अभी तक इस संबंध में कोई दस्तावेज जमा नहीं किए हैं।