66.83 लाख गुटखा से भरा ट्रक जब्त

  • पुलिस और विधायक में छिड़ी बहस

जलगांव. स्थानीय अपराध शाखा पुलिस ने चालीसगांव के पास मेहुंनबारे ग्राम से 66.83 लाख रुपये के गुटखा से भरा ट्रक पकड़ा. इस आरोप में ट्रक चालक मसूद अहमद शब्बीर अहमद और क्लीनर मोहम्मद अय्यूब दीन मोहम्मद को गिरफ्तार किया गया है.

कानूनी कार्रवाई के लिए वरिष्ठों के आदेश से यह ट्रक चालीसगांव से जलगांव की ओर लाया जा रहा था कि चालीसगांव के विधायक मंगेश चौहान ने ट्रक का पीछा कर  सवेरे 4 बजे जलगांव शहर के पास ट्रक को रोका और कानूनी कार्रवाई मेहुंनबारे पुलिस थाने के क्षेत्र में क्यों नहीं की, ऐसे पूछते हुए पुलिस को आड़े हाथों लिया. इस बात से विधायक और पुलिस में कुछ समय के लिए बहस छिड़ गयी थी. अंत में पुलिस ने यह ट्रक जलगांव के जिलापेठ पुलिस थाने में लाया और गुटखे की गिनती की.  

ट्रक की जांच करने पर हुआ खुलासा

प्राप्त जानकारी के अनुसार स्थानीय अपराध शाखा पुलिस को खबर मिली थी कि धुलिया से एक ट्रक मेहुंनबारे गांव की ओर आ रहा है और इस ट्रक में लाखों रुपये कीमत का गुटखा लदा है. पुलिस ने हाईवे पर निगरानी रखकर तेज रफ़्तार से जा रहे ट्रक(एमएच –18 एम-0553) को रोका और उसकी तलाशी ली. इस समय बोरों में भरा गुटखा मिला. अपराध शाखा पुलिस ने यह जानकारी अपने वरिष्ठों को दी. ट्रक सीधे जलगांव लाने का आदेश होने से पुलिस यह ट्रक लेकर जलगांव की ओर आ रही थी.

पीछा कर विधायक ने ट्रक रोका

इसी दौरान ट्रक का पीछा कर विधायक मंगेश चौहान ने यह ट्रक जलगांव शहर के पास रोक लिया. विधायक ने पुलिस से पूछा कि कार्रवाई घटना स्थल पर क्यों नहीं की गयी. इसको लेकर पुलिस और विधायक में बहस शुरू हुई. इसके बाद पुलिस ने ट्रक जिलापेठ पुलिस थाने में ही लाया और कार्रवाई की. पुलिस का कहना है कि ट्रक में लगभग 66.83 लाख  का गुटखा लदा है. यह गुटखा कहां से आया और किसके लिए ले जाया जा रहा था, इसकी जांच पड़ताल चल रही है.

पुलिस की भूमिका संदेहास्पद : मंगेश चौहान

विधायक मंगेश चौहान ने कहा कि प्रदेश में गुटखा सप्लाई करने वाली गैंग चालीसगांव में सक्रिय है. इसलिए इस मामले में पुलिस की भूमिका संदेहास्पद है.  उन्होंने कहा कि धुलिया से चालीसगांव तहसील के मेहुंनबारे में रात में गुटखे से भरा एक ट्रक आया था. अपराध शाखा पुलिस को इसकी खबर मिलने से पुलिस ने मेहुंनबारे इलाके में ट्रक की तलाशी लेकर उसे कब्जे में ले लिया. पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया ट्रक सीधे मेहुंनबारे पुलिस थाने में लाना चाहिए था. पुलिस  जलगांव लेकर आ गयी. इसकी खबर मिलने से मैंने ट्रक का पीछा किया और शहर के पास सवेरे 4 बजे ट्रक को रोका. घटना स्थल और गुनाह दर्ज कराने को लेकर  मौजूद पुलिस से पूछताछ की. उन्होंने कहा कि पुलिस अफसर ने बताया कि वह वरिष्ठों के आदेशों का पालन कर रहे हैं. पुलिस अफसर का नाम सुनते ही डीएसपी प्रवीण मुंडे से संपर्क किया, पर मुंडे ने ठीक से बात नहीं की. गुटखा सप्लाई करनेवाले और दोषी पुलिस अधिकारी, कर्मचारियों के खिलाफ गुनाह दाखिल किया जाना चाहिए.