सादगी से मनी बकरी ईद

  • हाथ मिलाने, गले मिलने से किया परहेज

जलगांव. जलगांव में शनिवार को ईद-उल-अजहा का जश्न कोविड-19 वैश्विक महामारी के मद्देनजर सादगी से मनाया गया. ज्यादातर लोगों ने छोटे समूहों में नमाज पढ़ी और शारीरिक दूर के नियम का पालन किया. अधिकारियों ने बताया कि ज़िले की प्रमुख मस्जिदों और दरगाहों में ईद की नमाज नहीं पढ़ी गई क्योंकि पुलिस ने जलगांव शहर समेत ज़िले के ज्यादातर हिस्सों में सख्त पाबंदियां लगाई हुई हैं. 

घरों में अदा की नमाज

प्रशासन ने बताया कि लोगों ने घरों में ही ईद की नमाज अदा की. कोरोना वायरस महामारी के बीच एहतियात बरतते हुए शनिवार को ईद-उल-अजहा का पर्व मनाया गया. इस मौके पर लोगों ने घरों में नमाज पढ़ी और पशुओं की कुर्बानी दी. महामारी के संकट के बीच लोग मास्क लगाकर मस्जिद गए और सामाजिक दूरी का पालन किया. नमाज पढ़ने के बाद लोगों ने एक दूसरे से हाथ मिलाने और गले लगने से परहेज किया. 

कुछ मस्जिदों में सामूहिक नमाज

फारुख शेख ने कहा कि ईद-उल-अजहा का मतलब है कुर्बानी की ईद. हमने महामारी से राहत, शांति और देश के विकास के लिए दुआ मांगी और कोविड-19 के एहतियात के साथ घरों में नमाज पढ़ने घरों पर रुकने की अपील की है. हालांकि शहरों के अंदरुनी हिस्सों में स्थित मस्जिदों में समूहों में ईद की नमाज पढ़ने की खबरें आयी हैं.