कोरोना से बचने के लिए ‘हृदय मरीज’ ऐसे रखे अपना ध्यान

चीनी शहर वुहान से फैले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में हाहाकार मचाया है। भारत में भी यह वायरस बड़े पैमाने में फ़ैल रहा है। साथ ही इस वायरस से ढाई हजार से अधिक लोगों ने अपनी जान गवाई है। कोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जो किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है। इसलिए, कोरोना के प्रकोप से बचने के लिए नागरिकों को सावधानी बरतने की आवश्यकता है। इस बिच वॉकहार्ट अस्पताल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ रवि गुप्ता ने कहा कि, कोरोना वायरस से बचने के लिए विशेष रूप से मधुमेह और ह्रदय रोगियों को अतिरिक्त सावधानी बरतने की आवश्यकता है। इस तरह के मरीजों की प्रतिरक्षा शक्ति सामान्य व्यक्तियों की तुलना में कम होती है। इसलिए यदि वे इस प्रकार के वायरस से संक्रमित होते हैं तो यह जटिलताओं का कारण बन सकता है। 

कोरोना का सबसे बड़ा खतरा
– वैश्विक शोध के अनुसार, 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों और ह्रदय की बीमारी वाले लोगों को कोरोना वायरस का खतरा सबसे अधिक होता है।
– हृदय प्रत्यारोपण सर्जरी से गुजरने वाले मरीज भी इस वायरस से जल्दी संक्रमित होते है। 
– गर्भवती महिला

हृदय रोगियों के लिए खतरनाक बन सकता है कोरोना वायरस
यदि किसी ह्रदय रोगी को कोरोना वायरस का संक्रमण होता है तो उसके पूरे शरीर में जलन होने की संभावना होती है। इसके अलावा, दिल की धड़कन असंतुलित हो जाती है। 

जिन लोगों को कई वर्षों से ह्रदय की बीमारी है ऐसे लोगो की प्रतिरक्षा शक्ति बहुत कम होती है। ऐसे समय यदि इन लोगो को फ्लू या कोरोना वायरस संक्रमित होता है, तो उनका शरीर कोरोना वायरस से लड़ने में विफल रहता है। इस बिच बुखार और भूख न लगना जैसी समस्याएं निर्माण होती है। नतीजतन, रोगी की स्थिति खराब हो जाती है। 

ऐसे रखे अपना ध्यान – सार्वजनिक स्थानों पर घूमने न जाए 
– खाना पकाने या खाने से पहले अपने हाथ अच्छी तरह से धोएं
– खांसने और छींकते समय अपने मुँह पर रुमाल रखे 
– छींकने या खांसने पर उपयोग किए गए ऊतकों का निपटान।
– नियमित रूप से पौष्टिक आहार लें
– आहार में ताजे फल और सब्जियां शामिल होनी चाहिए
– गर्मी में ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं
– घर में मेहमानों को आमंत्रित न करें
– रिश्तेदारों से फोन पर संवाद करें
– कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सामाजिक दूरी बनाए रखें
– आवश्यक दवाओं को स्टोर करें और उन्हें नियमित रूप से लें।