पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल को लेकर की विवादित टिप्पणी, भाजपा बोली – मांगें माफी

    भोपाल: मध्य प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र (Madhya Pradesh Assembly Budget Session) सोमवार से शुरू हो गया है। सत्र के पहले दिन महामहिम राज्यपाल आंनदीबेन पटेल (Governor Anandiben patel) ने अभिभाषण दिया। राज्यपाल के संबोधन को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष कमल नाथ (Formar CM & opposition Leader Kamal Nath) ने विवादित बयान दिया है। कांग्रेस नेता (Congress Leader) के इस बयान पर भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta Party) हमलावर हो गई है। सरकार में मंत्री विश्वास सारंग (Vishwas Sarang) ने कमलनाथ से माफी मांगने की मांग की है।

    दरअसल, राज्यपाल के अभिभाषण के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कमलनाथ ने कहा, “हम परंपराओं का आदर करते हैं, बीजेपी की नकल नहीं करना चाहते..जो कोई परंपरा और सिद्धांत का पालन नहीं करते इसलिए हमने तय किया था कि हम अध्यक्ष का चुनाव सर्वसहमति से करवाएंगे। आज मुझे राज्यपाल पर दया आती है कि उनको ऐसा भाषण पढ़ना पड़ा जो मीडिया के लिए है प्रदेश के लिए नहीं है।”

    बहुत दुर्भाग्यपुण और शर्मनाक है

    राज्य के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा, “अभिभाषण के बाद कमलनाथ जी ने जो टिप्पणी की है वो बहुत दुर्भाग्यपुण और शर्मनाक है। अभी कमलनाथ जी कांग्रेस के इतने बड़े नेता नहीं हुए कि महामहिम राज्यपाल पर वो दया करे। उन्हें यथाशीघ्र अपने बयान पर सफाई देना और माफी मांगना चाहिए।”

    मेरा मजाक उड़ाने वाले उसी पर उपलब्धि बता रहें 

    कांग्रेस नेता ने मुख्यमंत्री शिवराज पर तंज कसते हुए कहा, “जब मैं कोरोना की बात करता था तब मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान जी मज़ाक उड़ाते थे कि ये कोरोना डरोना क्या है? और आज राज्यपाल के भाषण में  कोरोना पर अपनी उपलब्धियां बता रहे हैं।”