Corona Cases in India : Less than 45 thousand new corona cases reported in the country in the last 24 hours, 911 people died
File Photo

  • मोदी सरकार ने चेताया.

नयी दिल्ली/मुंबई.  जहाँ एक तरफ कोरोना (Corona) की दूसरी लहर का कहर अब धीमा पड़ते जा रहा है। वहीं देश में इस संक्रमण (Pandemic) की तीसरी लहर के आने की आशंका और कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट (Delta Plus Veriant) ने भी अब चिंताएं और बढ़ा दी है। जहाँ इस मुद्दे पर एक्सपर्ट्स का कहना है कि तीसरी लहर आ सकती है। वहीं ऐसे में सबसे ज्यादा खतरा एक बार फिर महाराष्ट्र को है। दरअसल एक्सपर्ट्स की मानें तो कोरोना की तीसरी लहर महाराष्ट्र में 50 लाख से अधिक लोगों को संक्रमित कर सकती है और इसमें से 10% यानी 5 लाख बच्चे भी हो सकते हैं। इतना ही नहीं इस तीसरी लहर के दौरान राज्य में एक्टिव केसों की संख्या अब 8 लाख तक भी पहुंच सकती है। 

बीते शुक्रवार को CM उद्धव ठाकरे ने कोरोना संबंधी नए नियमों का ऐलान करने से पहले ही इन आशंकाओं को लेकर अपने ख़ास एक्सपर्ट्स और टास्कफोर्स से चर्चा की है। इस मुद्दे पर महाराष्ट्र के फूड ऐंड ड्रग मिनिस्टर राजेंद्र शिंगणे ने कहा कि। ” इस तीसरी लहर में करीब पांच लाख बच्चे संक्रमित हो सकते हैं और इनमें से ढाई लाख बच्चों को सरकारी अस्पतालों में भर्ती कराना पड़ सकता है। इस हफ्ते मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक के दौरान इस पर भी एक चर्चा हुई है।’

महाराष्ट्र पर क्यों है इतना खतरा?

दरअसल स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बीते शुक्रवार को बताया कि तीसरी लहर का सबसे ज्यादा खतरा महाराष्ट्र को क्यों है। उनका कहना था कि, ” जब वायरस शरीर में अपनी कॉपियां बनाता है, तो वह अपने लंबे समय तक जीवित रहने के लिए उसमें कुछ बदलाव भी लाता है।” उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना की लहरे आना अब चिंता का विषय नहीं है लेकिन हमने अपने लापरवाही भरे व्यवहार से इन लहरों को गंभीर होने दिया, यह एक चिंता का विषय है।”

महाराष्ट्र : इन जिलों में  खतरा

वहीं इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के डायरेक्टर जनरल डॉक्टर बलराम भार्गव ने बीते शुक्रवार को बताया कि महाराष्ट्र के कुछ जिलों में अभी भी संक्रमण दर 5 % से ऊपर ही है, जो कि फिलहाल चिंता का विषय है। इन जिलों में रायगढ़, संगली, सिंधुदुर्ग, सतारा, पुणे, रत्नागिरी, कोल्हापुर, पालघर और उस्मानाबाद शामिल हैं। उन्होंने यह भी बताया कि राज्य में फिर से इस प्रकार के प्रतिबंध लागू करना अच्छा कदम है।

महाराष्ट्र में है डेल्टा प्लस वेरिएंट

पता हो कि महाराष्ट्र के रत्नागिरी में डेल्टा प्लस वैरिएंट से 80 साल की एक महिला की मौत हो गई थी। वहीं कुछ मीडिया रिपोर्टों की मानें तो, मध्य प्रदेश में भी डेल्टा