amrita

    मुंबई. एंटीलिया सचिन वाज़े मामले में महाराष्ट्र पुलिस के पूर्व कमिशनर परमबीर सिंह (ParamBir Singh) द्वारा लिखी चिट्ठी के चलते अब गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर गंभीर आरोप लगे हैं। इस चिट्ठी ने महाराष्ट्र की सियासत में अब एक ऐसा भूकंप ला दिया है कि उद्धव सरकार (Udhhav Goverment) बुरी तरह से हिल गयी है। अब इस सियासी घमासान में पूर्व CM देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस भी कूद पड़ी हैं।

    इसी के साथ अब अमृता ने ट्वीट कर यह भी संकेत दिया है कि अनिल देशमुख पर परमबीर सिंह की ओर से लगाए गए आरोपों के दूरगामी परिणाम दिखने वाले हैं। इसी के साथ महाराष्ट्र सरकार में सहयोगी कांग्रेस के नेता संजय निरुपम ने भी पूरे विवरण को लेकर NCP प्रमुख शरद पवार पर भी सवाल खड़े किये हैं और कांग्रेस से भी अपना रुख साफ करने को कहा है।

    गौरतलब है कि बीते शनिवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे अपने पत्र में मुंबई के पूर्व कमिश्नर ने परमबीर ने गृहमंत्री अनिल देशमुख पर कई संगीन आरोप लगाए। अपने भेजे पत्र में सिंह ने कहा, “अनिल देशमुख अपने अधिकारी को पिछले कुछ महीनों में  बार-बार और कई बार अपने सरकारी निवास ज्ञानेश्वर बुलाया और रुपयों की उगाही का निर्देश दिया।”

    इस पर पूर्व CM देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता ने ट्वीट किया कि, “जिस तरह से चीजें शुरू हुई हैं, यह दूर तक जाएगी। राजा को बचाने के लिए आखिर कितनों को बलिदान देनी होगा।”

    संजय निरूपम बोले- रुख साफ करे कांग्रेस:

    इधर इस पुरे मुद्दे पर महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व सांसद संजय निरुपम (Sanjay Nirupam) ने कहा है कि कांग्रेस (Congress) को मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह के दावे पर अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए। निरुपम ने ट्वीट किया, ‘‘ परमबीर सिंह जो कह रहे हैं, अगर उसमें सच्चाई है तो माननीय शरद पवार जी से सवाल पूछा जाना चाहिए क्योंकि वर्तमान महाराष्ट्र सरकार को उन्हीं ने बनाया है। क्या कथित तीसरा मोर्चा अंततः यही सब करेगा? कांग्रेस को इस मुद्दे पर रुख स्पष्ट करना चाहिए।”