amruta-udhhav

मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में एक बार फिर मंदिर नहीं खोलने के मुद्दे पर राजनीती शुरू हो गयी है। जहाँ बीते बुधवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) और CM उद्धव ठाकरे (Udhhav Thackrey) में घमासान हुआ था। वहीं इसी कड़ी में अब अगला नाम पूर्व CM देवेंद्र फडणवीस (DevendraFadnavis) की पत्नी अमृता (Amruta Fadnavis) का है। जिन्होंने, CM उद्धव पर कटाक्ष करते हुए कहा कि, “भरोसा नहीं कर पाने वाले लोगों को सर्टिफिकेट देकर खुद को साबित करना होता है।”

दरअसल मंदिर खुलवाने में नाकाम CM उद्धव ठाकरे पर अमृता फडणवीस ने ट्वीट करते हुए कहा कि, “महाराष्ट्र में बार और शराब की दुकानों को खोलने की छूट है, लेकिन मंदिर खतरनाक जोन में हैं। भरोसा न कर पाने वाले लोगों को सर्टिफिकेट देकर खुद को साबित करना होता है, ऐसे लोग स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) को लागू करवाने में नाकाम रहते हैं।”

मंदिर मुद्दे पर CM और राज्यपाल के बीच हुआ था पत्राचार 

 बता दें कि बीते महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखी जिसमे उन्होंने कहा था कि, “1 जून से आपने मिशन फिर से शुरू करने की घोषणा की थी, लेकिन आज चार महीने बाद भी पूजा स्थल नहीं खोले जा सके हैं।” यही नहीं राज्यपाल कोशियार ने यह भी लिखा था कि, “यह भी एक अजीब स्तिथि है कि, एक तरफ सरकार  ने बार और रेस्तरां खुलवा दिए हैं, लीकिन वहीं दूसरी तरफ विभिन्न देव स्थलों को अभी भी नहीं खोला गया है। आप तो हिंदुत्व के मजबूत पक्षधर में से हैं और आपने भगवान् राम के लिए सार्वजानिक रूप से से अपनी भक्ति व्यक्त भी की है।” इस चिट्ठी में आगे उन्होंने लिखा है कि, “आप स्वयं तो आषाढ़ी एकादशी पर विट्ठल रुक्मणी मंदिर का दौरा करने गए थे, क्या अब आपने अचानक खुद को अचानक ‘धर्मनिरपेक्ष’ बना लिया है? जिस शब्द से अब तक आपको नफरत है?” 

इसके जवाब में CM उद्धव ठाकरे ने जवाब देते हुए लिखा था कि “पत्र में मेरे हिंदुत्व का उल्लेख करना गलत है। हिंदुत्व के लिए मुझे आपके सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है।” मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पत्र में ये भी लिखा कि “मेरे राज्य की राजधानी को POK कहने वालों को हंसते हुए घर में स्वागत करना मेरे हिंदुत्व में नही बैठता है।” गौरतलब है कि बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने मुंबई की तुलना पाक अधिकृत कश्मीर से की थी। बावजूद इसके राज्यपाल ने कंगना को मिलने का समय दिया था।”

राज्यपाल कोश्यारी के पत्र पर भड़के पवार

इधर इस पत्राचार पर राष्ट्रवादी के सर्वेसर्वा शरद पवार (Sharad Pawar) ने नाराजगी जताई थी। इस संबंध में उन्होंने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को पत्र लिखा था। जिसमे उन्होंने  कहा कि “यह पत्र राज्यपाल ने किसी राजनीतिक पार्टी के नेता को लिखा, ऐसा लग रहा है। साथ ही राज्यपाल पद पर बैठे व्यक्ति के इस प्रकार के व्यवहार पर दुःख व्यक्त किया है। मैं मानता हूं कि माननीय राज्यपाल इस मुद्दे पर अपने स्वतंत्र विचार और राय रख सकते हैं। पत्र के माध्यम से अपने विचार व्यक्त करने के लिए राज्यपाल की सराहना करता हूं। हालांकि, यह जानकर मैं हैरान हूं कि राज्यपाल का पत्र मीडिया को जारी किया गया।” उन्होंने यह भी कहा था कि, पत्र में जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया गया है वह संवैधानिक स्थिति रखने वाले व्यक्ति के लिए शोभा नहीं देता। 

अब इसी मुद्दे पर पूर्व CM देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता ने फिर से अपनी बात रख कर एक नयी लड़ाई को हवा दे दी है। बता दें कि अमृता फडणवीस इससे पहले भी कई मुद्दों पर CM उद्धव ठाकरे को घेर चुकी हैं।