Fadnavis strongly attacked, said - Thackeray government failed on every front in last 1 year

  • विरोधी पक्ष नेता देवेन्द्र फडणवीस का ठाकरे सरकार पर तंज

औरंगाबाद. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में राज्य की जनता ने महाविकास आघाडी सरकार को चूना नहीं था, परंतु बेईमानी से 3 दलों की सरकार  महाराष्ट्र में सत्तासीन हुई है. महाविकास आघाडी सरकार 5 साल सत्ता के कितने भी सपना देख ले. यह सरकार अपना कार्यकाल पूरा करने में नाकाम होगी. यह आरोप महाराष्ट्र विधानसभा के विरोधी पक्ष नेता और राज्य के पूर्व सीएम देवेन्द्र फडणवीस ने राज्य की महाविकास आघाडी सरकार पर लगाकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर  तंज कसा.

मराठवाड़ा स्नातक चुनाव में भाजपा उम्मीदवार शिरीष बोरालकर के प्रचार के लिए औरंगाबाद पधारे फडणवीस ने शहर के डॉक्टर, इंजीनियर, वकीलों के साथ बैठक की. इसी दरमियान आयोजित प्रेस वार्ता में उन्होंने  यह आरोप लगाया.उन्होंने बताया कि ठाकरे सरकार को बने 1 साल का समय गुजर रहा है. यह सरकार किसान और आम जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने में नाकाम साबित हुई है. 

किसानों को नहीं मिली मदद

बेमौसमी बारिश से किसानों के लिए महत्वपूर्ण सोयाबीन और कपास की फसलें पूरी तरह बरबाद हुई, परंतु आज तक किसानों को सरकार की ओर से कोई आर्थिक मदद नहीं मिल पायी. जिससे किसान कई परेशानियों से गुजर रहा है. कोरोना काल में भी महाराष्ट्र सरकार व्यापारी, रिक्शा चालक, बारा बलुतेदार के अलावा आम आदमी को राहत पहुंचाने में पूरी तरह नाकाम रहीं.यहीं कारण है कि महाराष्ट्र की जनता में ठाकरे  सरकार को लेकर काफी  गुस्सा है. राज्य की जनता को मदद करने के बजाए यह सरकार सिर्फ केन्द्र सरकार की तरफ मदद के लिए उंगली दिखाने का काम जारी है. देश के छोटे-छोटे राज्यों ने कोरोना काल में आम जनता को मदद पहुंचायी, परंतु, महाराष्ट्र सरकार यह काम नहीं कर पायी. 

स्नातक चुनाव में भी ‘मूड ऑफ नेशन’ भाजपा के पक्ष में 

फडणवीस ने कहा कि हाल ही में संपन्न हुए बिहार   विधानसभा चुनाव के अलावा देश के कई राज्यों में संपन्न हुए उप चुनावों में मोदी की लहर कायम रहीं. देश के पूर्व, उत्तर,दक्षिण, पश्चिम क्षेत्रों में भाजपा का परचम लहराया. महाराष्ट्र में 5 विधान परिषद के सीटों को लेकर  चुनाव हो रहा है. उसमें 3 स्नातक चुनाव के अलावा शिक्षक निर्वाचन क्षेत्रों के चुनाव में भी ‘मूड ऑफ नेशन’ भाजपा के पक्ष में रहेगा. देश की जनता ने जिस तरह पीएम नरेन्द्र मोदी पर विश्वास दिखाया. उसी तरह का विश्वास महाराष्ट्र में होने जा रहे स्नातक और शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के मतदाता दिखायेंगे. यह दावा विरोधी पक्ष नेता देवेन्द्र फडणवीस ने यहां किया.

मराठवाडा के प्रकल्पों को स्टे देने का काम जारी 

पूर्व सीएम ने बताया कि महाराष्ट्र में जब भाजपा की सरकार थी, तब हमारे एजेंडे पर मराठवाडा टॉप एजेंडे पर था, परंतु गत एक साल से महाविकास आघाडी सरकार ने मराठवाडा के विकास की ओर से पूरी तरह अनदेखी की है. फडणवीस ने अपनी सरकार के कार्यकाल में मराठवाडा के विकास के लिए किए गए कार्यों को गिनाते हुए बताया कि मराठवाडा के किसान और हर व्यक्ति के घर तक पानी पहुंचाने के लिए हमने वॉटर ग्रीड योजना को मंजूरी देकर उसका  काम हाथ में लिया था. इस योजना के माध्यम से भाजपा सरकार मराठवाडा को सूखे से मुक्त करने के साथ ही हर व्यक्ति के घर तक पानी पहुंचाती थी. इस योजना को सरकार ने स्टे दिया है.  

कैसे होगा मराठवाडा का विकास 

औरंगाबाद शहर के विकास के लिए करोड़ों का निधि उपलब्ध कराया था. शहर की पानी समस्या हल करने 1680 करोड़ रुपए के  पेयजल योजना को मंजूरी दी थी. औद्योगिक क्षेत्र के उन्नति के लिए औरंगाबाद में डीएमआईसी को बढ़ाया दिया. आज यह सरकार मराठवाडा के विकास के लिए तत्कालीन भाजपा सरकार द्वारा हाथ में लिए प्रकल्पों को सिर्फ स्टे देने का काम कर रही है. प्रकल्पों को स्टे देने पर मराठवाडा का विकास कैसे होगा? यह सवाल फडणवीस ने करते हुए राज्य सरकार के कामकाज पर कई सवाल उपस्थित किए.

समाचार न होने पर पंकजा नाराज होने की खबरें चलायी जाती 

एक सवाल के जवाब पर पूर्व सीएम फडणवीस ने पत्रकारों पर ही पलटवार करते हुए कहा कि पत्रकारों के पास जब कोई खबरें नहीं होती तब वे पंकजा भाजपा से नाराज होने की खबरें चलाते है. पत्रकारों के पास खबरें न होने पर वे हमसे संपर्क करें, हम उन्हें खबरें उपलब्ध करायेंगे. फडणवीस ने बताया कि मराठवाड़ा स्नातक चुनाव के लिए भाजपा की ओर से दिए गए उम्मीदवार शिरीष बोरालकर पंकजा मुंडे के पिता स्व. गोपीनाथ मुंडे उन्हें उम्मीदवार बनाना चाहते थे. कुछ सालों पूर्व उन्होंने मैं जब प्रदेशाध्यक्ष तब मुझे बुलाकर कहा था कि बोरालकर को स्नातक चुनाव में उम्मीदवारी देकर उन्हें चूनकर लाना है. ऐसे में पंकजा नाराज होने की जो खबरें आ रही है, वह पूरी तरह निराधार है. 

सुबह के समय नहीं लूंगा अब शपथ 

गत वर्ष आज ही के तारीख पर देवेन्द्र फडणवीस ने आनन-फानन में सुबह-सुबह अजीत पवार के साथ सीएम पद की शपथ ली थी. उसे सोमवार को एक साल हुआ. उसकी याद फडणवीस को दिलाने पर उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा कि ऐसे बातों की याद दिलाना ठीक नहीं, परंतु इसके बाद मैं सुबह-सुबह सीएम पद की शपथ न लेते हुए सही समय पर ही शपथ लेते हुए दिखाई दूंगा. 

 बोरालकर की जीत तय 

अंत में फडणवीस ने कहा कि मराठवाडा स्नातक चुनाव में भाजपा उम्मीदवारी बोरालकर की जीत तय है. इस निर्वाचन क्षेत्र के दो बार  प्रतिनिधि कर चुके विधायक सतीश चव्हाण से मतदाता काफी नाराज है. इसका फायदा बोरालकर को होकर वे निर्वाचित होंगे. पत्रकार परिषद में भाजपा की राष्ट्रीय सचिव विजय रहाटकर, पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे, पूर्व सांसद डॉ. भागवत कराड, विधायक अतुल सावे उपस्थित थे.