पानी बिल बकाया, मुख्यमंत्री का बंगला डिफॉल्टर !

  • मंत्रियों के बंगलों पर लाखों रुपये का बिल बकाया

मुंबई.  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray), उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (Deputy Chief Minister Ajit Pawar) समेत राज्य के कई मंत्रियों और नेताओं के बंगलों में लाखों रुपये का पानी का बिल बकाया होने की वजह से मुंबई मनपा (BMC) ने उन्हें डिफॉल्टर (Defaulter) घोषित कर दिया है।

RTI से मिली जानकारी

मुंबई मनपा की तरफ से आरटीआई (RTI) के तहत पानी के बिल के बकायेदारों की जानकारी दी गयी है, जिसमें कई मंत्रियों और नेताओं के सरकारी आवास शामिल हैं।  मनपा की तरफ से दी गयी जानकारी के मुताबिक जिन सरकारी आवासों के पानी का बिल बकाया है उसमें  मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (वर्षा बंगला) (Varsha Bungalow), उपमुख्यमंत्री व वित्तमंत्री अजीत पवार (देवगिरी) (Devgiri), जयंत पाटिल (सेवासदन), ऊर्जा मंत्री डॉ.  नितिन राउत, (पर्णकुटी), राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात, (रॉयलस्टोन), विरोधी पक्ष नेता देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) (सागर),  पूर्व मुख्यमंत्री एवं सार्वजनिक निर्माण मंत्री अशोक चव्हाण (Ashok Chavan) (मेघदूत), उद्योग मंत्री सुभाष देसाई, (पुरातन), दिलीप वलसे पाटिल  (शिवगिरी),  नगरविकास मंत्री एकनाथ शिंदे (नंदनवन), स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (जेतवन), विधानसभा अध्यक्ष नाना पाटोले, (चित्रकुट) का नाम शामिल है।

बकायादारों की जानकारी जुटाने वाले आरटीआई कार्यकर्ता  (RTI activist) शकील अहमद ने कहा है कि यदि आम आदमी का पानी बिल बकाया रहता है तो मुंबई महानगरपालिका के कर्मचारी उनका कनेक्शन काटने पहुंच जाते हैं, लेकिन मंत्रियों के आवासों पर लाखों के बिल बकाया हैं फिर उसे सालों से वसूला नहीं गया है।  

मुख्यमंत्री कार्यालय ने किया खंडन 

मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से पानी बिल बकाये की खबरों का खंडन किया गया है।  मुख्यमंत्री सचिवालय की तरफ से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि मुख्यमंत्री के अधिकृत सरकारी निवास वर्षा बंगले पानी बिल का किसी भी तरह का बकाया नहीं है। मनपा की रिपोर्ट के मुताबिक वर्षा (Varsha)  एवं तोरणा इन दोनों बंगलों पर किसी तरह के बिल का बकाया नहीं है।