Sensex rises 100 points in early trade, IT shares shine

मुंबई: शेयर बाजारों में मंगलवार को लगातार चौथे कारोबारी सत्र में गिरावट दर्ज की गयी और सेंसेक्स 300 अंक लुढ़क गया। कमजोर वैश्विक रुख के साथ आर्थिक पुनरूद्धार को लेकर चिंता के बीच निवेशक बाजार में बिकवाली कर रहे हैं। कारोबारियों के अनुसार अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये की विनिमय दर में गिरावट और प्रमुख शेयरों में अधिक तेजी आ जाने से भी निवेशकों के जोखिम लेने पर असर पड़ा। तीस शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 300.06 अंक यानी 0.79 प्रतिशत टूटकर 37,734.08 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 96.90 अंक यानी 0.86 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,153.65 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक नुकसान में मारुति रही। कंपनी का शेयर 2.83 प्रतिशत नीचे आया। इसके अलावा जिन अन्य प्रमुख शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी, उनमें एल एंड टी, इंडसइंड बैंक, एक्सिस बैंक, ओएनजीसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एशियन पेंट्स और एचडीएफसी शामिल हैं। लाभ में रहने वाले शेयरों की अगुवाई आईटी शेयरों ने की। एचसीएल टेक, टीसीएस और टेक महिंद्रा 2.43 प्रतिशत तक मजबूत हुए।

लाभ में रहनेवाले अन्य प्रमुख शेयरों में सन फार्मा, आईसीआईसीआई बैंक आफर अल्ट्रटेक सीमेंट शामिल हैं। वालस्ट्रीट में की कल की गिरावट के बाद एशिया के अन्य बाजार नुकसान में रहे। यूरोप के प्रमुख बाजारों में सोमवार की गिरावट के बाद स्थिरता रही। हालांकि, कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर चिंता बनी हुई है।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘घरेलू शेयर बाजारों में एक और दिन गिरावट आयी… दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों पर अंकुश लगाने के लिये फिर से पाबंदी लगाने की चर्चा को देखते हुए वैश्विक आर्थिक पुनरूद्धार के समय को लेकर संदेह उभरा है।” उन्होंने कहा, ‘‘अनिश्चितता का असर भारतीय बाजारों पर भी पड़ा है…ऐसा लगता है कि बाजार सुदृढ़ हो रहा है और स्थिति का जायजा ले रहा है।

निवेशकों को सतर्क रहने की सलाह दी जाती है।” एशिया के अन्य बाजारों में चीन में शंघाई, हांगकांग और दक्षिण कोरिया का सोल नुकसान के साथ बंद हुए। हालांकि यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरूआती कारोबार में सकारात्मक रुख रहा। इस बीच वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड 1.30 प्रतिशत की तेजी के साथ 41.98 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था। विदेशी विनिमय बाजार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 20 पैसे की गिरावट के साथ 73.58 पर बंद हुआ।