Kangana

बीजेपी-जेडीयू को मिलेगा सपोर्ट  

मुंबई. फिल्म अभिनेत्री कंगना रणावत का पीछे सेे जिस तरह से भारतीय जनता पार्टी की टॉप लीडरशिप ने  समर्थन किया है, खासकर बिहार चुनाव के प्रभारी देवेन्द्र फड़णवीस ने कंगना को कदम दर कदम समर्थन दिया है, उससे अब यह साफ हो चला है कि बीजेपी बिहार चुनाव से पहले ‘मनाली की रानी’ को पार्टी में एंट्री कराकर उन्हें वहां के चुनाव प्रचार में उतार सकती है. यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि कंगना ही वो पहली बॉलीवुड अदाकारा हैं जिन्होंने बिना इसकी परवाह किए कि फिल्म इंडस्ट्री में उनके दुश्मन पैदा हो जाएंगे, उन्होंने सबसे पहले सुशांत की मौत को एक साजिश करार दिया था और मुंबई पुलिस की जांच पर सवालिया निशान लगाए थे. कंगना के कदम को सोशल मीडिया पर खूब सराहना मिली थी जिसमें ज्यादातर लोग बिहार से थे. बिहार के लोगों में शिवसेना को लेकर काफी आक्रोश है.

कांग्रेस ने किया किनारा

जिस तरह से पिछले दो दिनों में घटनाक्रम बदला है और कंगना के ऑफिस को जल्दबाजी में जमींदोज कर दिया गया, उससे कंगना विक्टिम कार्ड खेलकर खुद को एक योद्धा के रूप में प्रस्तुत कर बिहार के लोगों को एकजुट कर सकती हैं. यह भी काबिल-ए-गौर है कि कंगना प्रकरण से अपना राजनीतिक नुकसान होता देखकर ही कांग्रेस ने गुरुवार को महाराष्ट्र के नेताओं को कंगना के मुद्दे पर कुछ बयान ना देने की सलाह दी है. क्योंकि कांग्रेस को पता है कि शिवसेना और एनसीपी को बिहार में खोने के लिए कुछ भी नहीं है.

भाजपा में शामिल करना चाहते हैं मुंबई के नेता

कंगना को केंद्र सरकार द्वारा जल्दबाजी में दी गई वाई कटेगरी की सुरक्षा से राजनीतिक हलकों में यह बखूबी सन्देश गया है कि अब कंगना पार्टी के कितनी करीब आ चुकी हैं. उनका ऑफिस तोड़ दिए जाने से आम जनमानस की सहानुभूति उनके साथ तो है ही, मुंबई बीजेपी के कई नेता यही चाहते हैं कि कंगना को जितनी जल्दी हो पार्टी में शामिल कर लिया जाए. मुंबई बीजेपी के एक नेता ने कहा कि मुंबई की पीओके से तुलना की बात छोड़ दिया जाए तो पार्टी और उनकी लाइन काफी कुछ मिलती- जुलती है.

पूर्व मंत्री और विधायक आशीष शेलार ने पूछे जाने पर कहा कि ऐसे फैसले राज्य स्तर पर न लेकर केन्द्रीय स्तर पर लिए जातेे हैंं और कंगना को लेने या ना लेने जैसा कोई भी फैसला केन्द्रीय नेतृत्व ही लेगा. केन्द्रीय नेतृत्व ही इस बात का फैसला लेगा कि उन्हें प्रचारक या स्टार प्रचारक बनाया जाए या नहीं. 

कोई आश्चर्य की बात नहीं

इस बाबत शिवसेना सांसद और पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविन्द सावंत ने कहा कि कंगना बीजेपी की टीम के तौर पर काम कर रही हैं और किसी को कोई आश्चर्य नहीं होगा यदि अभिनेत्री को बीजेपी का चेहरा बना दिया जाए.