गोवंडी और शिवाजी नगर के ड्रग्स पैडलर्स पर पुलिस की नजर

  • गोवंडी बन रहा नशीली सामानों के तस्करी का गढ़
  • पुलिस ड्रग्स पैडलर के पीछे पड़ी
  • एंटी नारकोटिक्स सेल की कार्रवाई में लाखों के कफ सिरप के साथ एक गिरफ्तार

-तारीक खान

मुंबई. उपनगर का गोवंडी शिवाजी नगर का इलाका नशे का गढ़ बनता जा रहा है.  जिसे निपटने आए दिन मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच और एंटी नारकोटिक्स सेल (अमली पदार्थ विरोधी) के अधिकारी छापामारी कर नशे का कारोबार करने वालो और नशे के तस्करों को पकड़ते रहते हैं. पर हाल फ़िलहाल शिवाजी नगर और देवनार पुलिस इस गोरखधंधे पर लगाम कसने में नाकाम साबित होती दिख रही है.

पहले भी हुई है कार्रवाई

अपराध शाखा यूनिट-7 ने गुप्त सुचना पर गोवंडी के शिवाजी नगर इलाके से एक महिला मंजूषा सिंह को ड्रग्स तस्करी के आरोप में गिरफ्तार कर उसके पास से लगभग 11 लाख रुपए की 109 ग्राम कोकीन बरामद की थी. लॉकडाउन के समय में भी क्राइम ब्रांच ने भारी मात्रा में गोवंडी, शिवाजी नगर और मानखुर्द इलाके में अवैध रूप से प्रतिबंधित गुटखा (जहर) की स्मगलिंग करते कई लोगों को गिरफ्तार किया है. हाल ही में शिवाजी नगर पुलिस थाने की अमली पदार्थ विरोधी टीम ने गांजे की तस्करी करने आने वाले एक तस्कर को गिरफ्तार कर लगभग एक लाख रुपए का गांजा बरामद किया था.

प्रतिबंधित दवा का कारोबार करता है

पुलिस के अनुसार, गोवंडी, शिवाजी नगर और बैगनवाड़ी इलाके में फरार मुख्य ड्रग्स पैडलर रमेश बीरा स्वामी नायडू उर्फ़ अन्ना शिवाजी नगर के बाबासाहेब आंबेडकर गार्डन के हेल्थ सेंटर के करीब नशे के रूप में इस्तेमाल में लाई जाने वाली खांसी की दवा (कोरेक्स कफ सिरप) का व्यापार करता है. इसके लोग थैले और बैग और जेब में बोतलें लेकर नशा करने वालों को 10 गुनी कीमत में बेचते हैं. जबकि भारी मात्रा में कोरेक्स सिरप की बोतलें हेल्थ सेंटर के करीब झोपड़पट्टी में छुपा कर रखता था. पुलिस ने पूरे माल को जब्त कर लिया है और इस धंधे से जुड़े अन्य लोगों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है. इस नशे में लिप्त कई और ड्रग्स पैडलर्स की तलाश की जा रही है. फिलहाल पूरे मामले की जांच जारी है.

युवा पीढ़ी पर ड्रग्स पैडलर्स की नजर

गोवंडी और शिवाजी नगर में ड्रग्स पैडलर्स युवा पीढ़ी को नशे की लत डालकर अपना कारोबार बढ़ा रहे हैं. इनकी नजर युवा पीढ़ी पर ही है. युवा पीढ़ी पर नशीले पदार्थों की पकड़ लगातार मजबूत हो रही है. गोवंडी में गांजा, चरस, कफ सिरप, आयोडेक्स, व्हाइटनर, झंडू बाम और नींद की टैबलेट को नशे के इस्तेमाल में लिया जाता है. इन का सेवन करने वालों में 14 से 25 आयु वर्ग के युवकों की संख्या सब से अधिक है. नशे की लत को पूरा करने के यहां चोरी, लूटमार, पैसे के लिए जानलेवा हमला आदि अपराध में बढ़ोतरी हो रही है.

एक पैडलर गिरफ्तार, ड्रग्स माफिया फरार

मुंबई पुलिस के घाटकोपर यूनिट की एंटी नारकोटिक्स सेल ने एक गुप्त सुचना पर भारी मात्रा में नशे के रूप में इस्तेमाल में लाई जा रही अवैध “कोडीन फॉस्फेट कफ सिरप” जब्त की है. इस नशे की तस्करी करने वाले एक राहुल श्रवण गायकवाड़ (26) नाम के ड्रग्स पैडलर को गिरफ्तार भी किया है, जो गोवंडी के बैगनवाड़ी में रहता है. पुलिस ने इसके पास से 2053 कफ सिरप की बोतलें बरामद की है जिसकी कीमत लगभग 4 लाख रुपए है. अभी इस मामले में गोवंडी का सबसे बड़ा नशे का सौदागर रमेश बीरा स्वामी नायडू उर्फ़ अन्ना फरार है.  -लता सुतार,वरिष्ठ महिला पुलिस निरीक्षक