Rajawadi hospital

    मुंबई. मंगलवार को राजावाड़ी अस्पताल (Rajawadi Hospital) के आईसीयू (ICU) में भर्ती जिस मरीज (Patient) को चूहे (Rat) ने अपना शिकार बनाया था उसकी बुधवार को मौत (Death) हो गई। श्रीनिवास यल्लपा (Shrinivas Yellappa) नामक मरीज को ब्रेन की बीमारी के साथ-साथ उसका लिवर भी खराब हो गया था। उसे कुछ दिन पहले ही मनपा के घाटकोपर स्थित राजावाड़ी अस्पताल में भर्ती किया गया था। जहां चूहे ने उसे आंख के निचले हिस्से को कुतर दिया था। 

    मरीज की हालत वैसे ही नाजुक बनी हुई थी कि शाम 6 बजे उसका देहांत हो गया। मृतक की बड़ी बहन यशोदा यल्लपा ने बताया कि उन्हें 8 बजे बताया गया कि उनके भाई की मौत हो गई है। मृतक के साथ हुई घटना के बाद परिवार अब भी काफी नाराज हैं। हालांकि अस्पताल प्रशासन द्वारा मौत का कारण स्वास्थ्य से जुड़ी अन्य समस्याओं को बताया जा रहा है।

    कांदिवली शताब्दी और जोगेश्वरी में भी चूहे का शिकार हुए थे मरीज

    गौरतलब है कि 4 वर्ष पहले 9 अक्टूबर को कांदिवली स्थित महानगरपालिका के शताब्दी अस्पताल में भी लकवा के एक मरीज चूहे का शिकार बना था। महानगरपालिका के जोगेश्वरी स्थित ट्रामा केयर सेंटर में भी एक मरीज चूहे का शिकार हुआ था। अब एक बार फिर से चूहों का आतंक और प्रशासन की लापरवाही देखने को मिली है। कल ही बीजेपी सांसद मनोज कोटक ने ट्वीट कर बीएमसी पर तंज कसते हुए कहा था कि एशिया की सबसे बड़ी महानगरपालिका बीएमसी के पास अस्पताल को चूहों से दूर रखने का भी उपाय नहीं है। पीड़ित का परिवार इस घटना से सदमे में है, लेकिन हमें आश्चर्य नहीं क्योंकि इसके पहले कांदिवली के अस्पताल में भी ऐसी ही घटना हुई थी। बीएमसी इस लापरवाही का जवाब दें।