Bawankule
File Photo

    नागपुर. भाजपा ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार ने नागपुर शहर व जिले के 4 लाख राशनकार्ड धारकों को एनपीएच में डाल दिया है. इस वजह से 4 लाख कार्ड पर निर्भर लगभग 15 लाख नागरिकों को सरकारी राशन नहीं मिल रहा है. भाजपा प्रदेश महासचिव चंद्रशेखर बावनकुले के नेतृत्व में सभी परिवारों को राशन देने की मांग को लेकर जिलाधिकारी कार्यालय में घेराव किया गया.

    बावनकुले ने आरोप लगाया कि राज्स सरकार के कहने पर जिलाधिकारी कार्यालय ने लाखों गरीब परिवारों को अनाज से वंचित कर दिया है. अगर 7 दिनों के भीतर लोगों को न्याय नहीं मिला तो भाजपा बड़ा आंदोलन खड़ा करेगी और इसके लिए सरकार जिम्मेदारी होगी. जिलाधिकारी से भेंट के दौरान विधायक प्रवीण दटके, सांसद विकास महात्मे, विधायक कृष्णा खोपडे, गिरीश व्यास, विकास कुंभारे, संजय बंगाले, रामभाऊ आंबुलकर, सुनील मित्रा उपस्थित थे.

    लॉकडाउन में नहीं जा सके दूकान

    बावनकुले ने कहा कि कोरोना लॉकडाउन के कारण जो कार्डधारक राशन दूकान नहीं जा सके, ऐसे 50 हजार लोगों को राशन की जरूरत नहीं, यह समझकर एनपीएच में डाल दिया गया. उन्होंने सवाल उठाया कि यह किस नियम के तहत किया गया. उन्होंने 4 लाख कार्डधारकों को तत्काल राशन देना शुरू करने की मांग की.

    उन्होंने कहा कि संजय गांधी निराधार योजना के लाभार्थियों को पिछले 4 महीनों से जिले में एक भी रुपया नहीं दिया गया. 4-4 महीने पैसा नहीं मिलने से उन्हें घर चलाना मुश्किल हो गया है. उन्होंने मांग पूरा नहीं किये जाने पर 7 दिनों के बाद तीव्र आंदोलन करने की चेतावनी दी. जिन 4 लाख कार्डधारकों को राशन देना बंद किया गया है उसमें सिटी के 2.67 लाख कार्डधारकों का समावेश है.