Train
Representational Pic

  • 4 लाख यात्रियों को दिलाया भोजन, पानी

नागपुर. कोरोना प्रादुर्भाव के कारण लाकडाउन में फंसे मजदूरों और अन्य नागरिकों को उनके घर पहुंचाने के लिए चलाई गई श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में से 720 ट्रेनें नागपुर स्टेशन से गुजरी. इनमें से 350 ट्रेनों के करीब 5 लाख यात्रियों को मंडल रेल प्रशासन, आईआरसीटीसी तथा शहर पुलिस के मार्गदर्शन में काम करने वाली विभिन्न सामाजिक संस्थाओं द्वारा भोजन और पानी उपलब्ध कराया गया.

रेल मंत्रालय ने यह जानकारी मुंबई हाईकोर्ट को दी. ज्ञात हो कि नागपुर स्टेशन पर श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के यात्रियों के प्रति लापरवाही की खबरें सामने आई थी. इस पर संज्ञान लेते हुए हाईकोर्ट द्वारा राज्य सरकार और रेलवे को श्रमिक स्पेशल को यात्रियों को बेहतर भोजन और अन्य सुविधायें प्रदानकर सुरक्षित यात्रा कराने के आदेश दिये थे.

इस आदेश के बाद सरकार ने महाराष्ट्र राज्य परिवहन महामंडल की मदद से यात्रियों को विभिन्न गांवों और जिलों से स्टेशन तक पहुंचाने का काम शुरू किया था. इस बारे में रेलवे द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, नागपुर से करीब 22 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें विभिन्न राज्यों के लिए चलाई गई. अंतिम श्रमिक स्पेशल 13 जून को रवाना की गई. इन 22 ट्रेनों में कुल 20,840 यात्रियों को उनके गृहराज्य भेजा गया. जिलाधिकारी कार्यालय की मांग पर ये ट्रेनें उपलब्ध कराई गई थी. 

350 ट्रेनों को दिया था स्टापेज
रेलवे ने बताया कि नागपुर स्टेशन से कुल 720 ट्रेनें रवाना हुई. इनमें से 350 ट्रेनों को यहां स्टापेज दिया गया. इन ट्रेनों के 4,96,099 यात्रियों को भोजन, पानी और स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराई गई. वहीं, मंडल के तहत बल्लारशाह स्टेशन पर 194 ट्रेनों को स्टापेज दिया गया. यहां विभिन्न संस्थाओं की मदद से 2,72,000 यात्रियों को भोजन आदि प्रदान किया गया. रेलवे की ओर से एडवोकेट नितिन लांबट ने पैरवी की.