Nagpur Corona Update

  • शनिवार को मिले 3,679 नये पॉजिटिव, 29 की मौत
  • 1,594 को मिली छुट्टी
  • 83 प्रश पर पहुंचा रिकवरी रेट

नागपुर. कोरोना वायरस की रफ्तार का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सप्ताहभर पहले तक जहां मरने और संक्रमित होने वालों की संख्या कम थी, वहीं शनिवार तक वह दोगुनी हो गई. यदि रोकथाम के उपाय प्रभावी साबित नहीं हुये तो अगले सप्ताह तक स्थिति और भी विस्फोटक हो सकती हैं. यही वजह है कि अब खुद को वायरस और संक्रमितों से बचाये रखना बेहद जरूरी हो गया है. पिछले सप्ताहभर के भीतर जिले में 145 लोगों की जान चली गई. जबकि 21,216 लोग पॉजिटिव हो गये. सिटी में लॉकडाउन के दौरान दोपहर 1 बजे के बाद सब कुछ बंद रखा जा रहा था.

उम्मीद थी कि इस लॉकडाउन से वायरस की चेन टूटने में मदद मिलेगी. लेकिन पहले से ही संपर्क में आने वालों का दायरा इतना बड़ा हो गया था कि संक्रमण कम होने की वजह से तेजी से बढ़ता ही गया. पिछले रविवार से लेकर शनिवार तक मरने वालों सहित संक्रमित मरीजों की संख्या हर दिन बढ़ती गई. पिछले रविवार को 12 लोगों की मौत हुई थी. जबकि 2,252 संक्रमित मिले थे. वहीं शनिवार को 29 की मौत हो गई और 3,679 पॉजिटिव हो गये. मरने वालों की संख्या से एक बार फिर प्रशासन सहित डॉक्टरों की चिंता बढ़ गई है. 7 दिनों के भीतर 145 लोगों की जान चली गई.

लैब में नमूनों की भरमार

इस बीच शनिवार को मिली रिपोर्ट में भी कुछ राहत मिलती नजर नहीं आई. जिले में कुल 16,387 लोगों की जांच की गई. इसमें 6,149 जांच निजी लैब और 4,231 एंटीजन टेस्ट किये गये. इन दिनों शासकीय प्रयोगशालाओं में भी नमूनों की भरमार हो गई. चौबीस घंटे के भीतर मेडिकल की लैब में 2,165, मेयो में 1,915, एम्स में 921 और विवि की लैब में 750 नमूनों की जांच की गई. इनमें 3,679 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई. वहीं 29 लोगों की मौत हो गई. कुल पॉजिटिव मरीजों में 2,826 सिटी और 850 ग्रामीण में मिले. वहीं सिटी में 17 लोगों की जान चली गई. जबकि 9 मृतक ग्रामीण के रहे. इस तरह अब तक मरने वालों की संख्या 4,592 हो गई है. इस बीच जिले में चौबीस घंटे के भीतर 1,594 लोगों को छुट्टी दी गई. अब तक 1,57,249 लोग कोरोना से मुक्त हो चुके हैं. लेकिन जिले में एक्टिव केस 27,625 तक पहुंच गये हैं. रिकवरी रेट घटकर 83.00 प्रश पर पहुंच गया है.

और बढ़ेगी रफ्तार

डॉक्टरों की माने तो जिले में स्थिति भयंकर होती जा रही हैं. अब प्रशासन ने सोमवार से कई तरह की राहत देने की घोषणा की है. दूकानों के खुले रहने का भी समय बढ़ा दिया है. इससे लोगों का संपर्क और बढ़ेगा. इस हालत में संक्रमण के फैलने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता. इस हालत में खुद का बचाव खुद ही करना होगा. होम आइसोलेशन में रहकर लोगों को उपचार की सुविधा दी गई, लेकिन इसका अब भी सख्ती से पालन नहीं हो रहा है. परिवार का एक सदस्य पॉजिटिव होने के बाद वह अन्य सदस्यों को संक्रमित कर रहा है.