लचर कार्यप्रणाली की पोल खोलती पुलिया

  • महाराष्ट्र जनमंच ने दी आंदोलन की चेतावनी

नागपुर. महज 850 मीटर लंबे महाराजबाग डीपी रोड को जिस तरह 5 वर्ष में भी मनपा प्रशासन ने पूरा नहीं किया उससे उसकी लचर कार्यप्रणाली की पोल खुल रही है. अब तो इस रोड के आधे-अधूरे कार्य से परेशान नागरिकों में भी रोष देखा जा रहा है. महाराष्ट्र विकास मंच के अध्यक्ष कार्तिक लारोकर के नेतृत्व में मंच के युवा कार्यकर्ताओं ने तो चेतावनी दी है कि अगर अब जल्द से जल्द इस रोड का कार्य पूरा नहीं किया तो मनपा मुख्यालय के समक्ष तीव्र आंदोलन किया जाएगा और इसके लिए मनपा के कर्णधार जिम्मेदार होंगे.

लारोकर ने कहा कि जिस सिटी में विकास पुरुष के रूप में पूरी दुनिया में पहचान बनाने वाले केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी रहते हों उस सिटी में एक छोटे से रोड को पूरा करने के लिए भाजपा के अधिकारी टालमटोल की नीति अपनाते हैं तो यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है.

गडकरी ने अपने वादे को पूरा करते हुए 5 वर्ष में हजारों करोड़ की लागत का मेट्रो ट्रेन शुरू करवा दिया लेकिन मनपा में बैठे भाजपा के ही पदाधिकारी एक छोटे से रोड और उसमें एक छोटी सी पुलिया का काम पूरा नहीं करवा पा रहे हैं. यह मनपा में बैठे कर्णधारों की लचर कार्यप्रणाली को उजागर करता है. इस दौरान उनके साथ कविता लारोकर, रेखा मामोरडे, आशावरी लोही, प्रानशु शाहू, राजेन्द्र शाहू, सागर लारोकर, मंजुशा लाडेकर, शमा जैन, देवेन्द्र निमजे सहित बड़ी संख्या में मंच में कार्यकर्ता उपस्थित थे.

अधिकारी कर रहे बदनाम

महाराजबाग रोड का काम जिस तरह लटकाया गया है उससे तो यह संदेह भी हो रहा है कि कहीं सत्तादारी पदाधिकारियों को बदनाम करने के लिए अधिकारी तो जानबूझकर लेटलतीफी नहीं कर रहे हैं. हालांकि यह भी सच है कि मनपा के स्थावर समिति के 5 सभापति बदल चुके हैं लेकिन उनमें से किसी ने इस रोड के कार्य को तेजी से पूरा कराने के लिए कोई प्रयास नहीं किया. यही कारण है कि पदाधिकारियों द्वारा ध्यान नहीं दिये जाने के चलते अधिकारी भी टालमटोल की नीति अपनाते रहे और नागरिकों को परेशानियां झेलनी पड़ रही है. एक 850 मीटर लंबा यानी एक किमी से भी कम रोड बीते 5 वर्ष में भी पूरा नहीं हो पाया है. इस डीपी रोड के बीच में के छोटी सी पुलिया मनपा के संबंधित विभाग के लिए सिरदर्द बन गई है. मनपा के काबिल इंजीनियर इस पुलिया का हल नहीं निकाल पा रहे हैं जो हास्यास्पद लग रहा है. 

शार्टकट रोड है उपयोगी

महाराजबाग रोड ट्राफिक के लिहाज से बेहद उपयोगी व महत्वपूर्ण है. सिविल लाइन से यूनिवर्सिटी लायब्रेरी होते हुए धंतोली की ओर जाने और इस दिशा से आने वाले नागरिक इस रोड का उपयोग करते हैं. यह शार्टकट है इसलिए समय के साथ ही इंधन की भी बचत होती है. पहले यह सिंगल रोड था जिसे चौड़ा कर दिया गया है. लेकिन बीच में पड़ने वाली संकरी पुलिया को अब तक चौड़ा नहीं किया गया है. यह संकरी पुलिया सुचारू ट्राफिक में बाधा बन रही है. दुर्घटना का भी खतरा बना रहता है. इस पुलिया के डिजाइन में मनपा के इंजीनियरों द्वारा कुछ गड़बड़ी किये जाने की जानकारी मनपा सूत्रों ने दी है. डिजाइन के दोष को दूर करने से इसकी लागत भी बढ़ी है जिसका एप्रुवल स्टैंडिंग कमेटी से लेना है. बताया गया कि पदवीधर चुनाव के बाद ही यह प्रक्रिया हो सकती है.