ABVP pressure, university withdraws, refuses to give vice-chancellor speech in anti-naxal program

नागपुर. कोरोना के बढ़ते प्रादुर्भाव के बाद सरकार ने कालेजों की परीक्षा को रद्द कर दिया. इतना ही नहीं 10वीं व 12वीं का परिणाम भी पेंडिंग रखा गया है. विविध पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने वाले छात्र भी प्रवेश परीक्षा को लेकर कंफ्युज है. नागपुर में आरटीएम नागपुर विवि और गोंडवाना विवि का समावेश है.

नागपुर विवि में नियमित छात्रों की संख्या 62500 से भी अधिक है. वहीं निजी छात्रों की संख्या 8000 से अधिक है. इसी तरह गोंडवाना विवि में नियमित छात्र 17500 और निजी छात्र 4750 है. अंतिम वर्ष की परीक्षा को लेकर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की चर्चा से छात्रों के साथ ही पालकों में भी संभ्रम की स्थिति निर्माण हो गई है. आन लाइन परीक्षा पद्धति ग्रामीण भाग के लिए संभव नहीं है. इससे सोशल डिसटेंसिंग का नियम टूट जाएगा.

कोरोना की परिस्थिति के मद्देनजर सरकार द्वरा जल्द से जल्द निर्णय लेने की मांग को लेकर प्रभारी उपकुलपति मुरलीकर चांदेकर के माध्यम से राज्यपाल को जापन सौंपा गया. इस अवसर पर ओबीसी महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बबनराव तायवाडे. कांग्रेस नेता एड अभिजीत वंजारी. राजेश डेंगे. शुभम खुराना आदि उपस्थित थे.