RO Water
File Photo

  • कार्रवाई के नाम पर मनपा की लीपापोती
  • 132 आरओ के प्लांट
  • 21 को ही है मंजूरी

नागपुर. किसी भी कार्यक्रम में आगंतुको को ठंडा पानी पिलाने की दृष्टि से भले ही आयोजकों की ओर से 20 लीटर के कैन की व्यवस्था कराई जाती हो, लेकिन इन कैन में भरे जानेवाले पानी की शुद्धता हमेशा ही विवाद का मुद्दा रहा है. यहां तक कि शहर में भले ही 132 स्थानों पर आरओ प्लांट का संचालन होने का खुलासा हो रहा हो, लेकिन इनमें से मनपा की ओर से केवल 21 को ही मंजूरी प्रदान की गई है. जबकि अन्य प्लांट मंजूरी के बिना ही संचालित हो रहे हैं. अवैध और गैरकानूनी ढंग से आरओ प्लांट का संचालन होने का मामला उजागर होने के बावजूद मनपा की ओर से कार्रवाई नहीं किए जाने पर आश्चर्य जताया जा रहा है. विशेषत: इसी संदर्भ में मनपा की सभा में भी काफी हंगामा किया गया था. जिसके बाद महापौर की ओर से प्रशासन को निर्देश भी दिए गए. किंतु सभा खत्म होते ही मामला ठंडे बस्ते में चला गया.

दूसरे विभागों पर थोपी जा रही जिम्मेदारी

सूत्रों के अनुसार मनपा के जोनल कार्यालयों में स्थित स्वास्थ्य विभाग की ओर से इस तरह के प्लांट के लिए अनापत्ति प्रमाणपत्र दिया जाता है. लेकिन इन प्लांट में कहां से पानी लिया जाएगा. इसकी जांच की क्या प्रक्रिया है. इस संदर्भ में कोई ठोस जानकारी नहीं मांगी जाती है. इसके विपरित मनपा प्रशासन का मानना था कि पानी की गुणवत्ता की जांच की जिम्मेदारी प्रदुषण नियंत्रण मंडल की है. सूत्रों के अनुसार भले ही गुणवत्ता की जिम्मेदारी उनकी हो, लेकिन प्लांट में पानी कहां से लिया जा रहा है. इस पर मनपा का नियंत्रण होना चाहिए. कहीं पानी की चोरी तो नहीं हो रही है. इसका ध्यान रखना जरूरी है. लेकिन इस संदर्भ में प्रशासन सचेत नहीं है.

मिनरल वाटर के नाम पर केवल ठंडा पानी

सूत्रों के अनुसार अब कई आवासिय क्षेत्रों में लोगों ने घरों में ही मिनरल वॉटर का व्यवसाय शुरू कर लिया है. हालांकि मिनरल वॉटर के नियम और शर्तें काफी जटिल है तथा तकनीकी दृष्टि से इसका काफी ध्यान भी रखना होता है, लेकिन आश्चर्यजनक यह है कि सभी नियमों को ताक पर रखकर इसका व्यवसाय धडल्ले से चलाया जा रहा है. मिनरल वाटर के नाम पर केवल ठंडा पानी उपलब्ध कराया जाता है. पानी की शुद्धता और स्वच्छता को लेकर कोई भी मापदंड अपनाएं नहीं जाते हैं. ऐसी कम्पनियों की जांच कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग भी कई पार्षदों द्वारा की गई थी.