The National Sequence Institute claimed to cure a patient suffering from coronavirus in three days
File Photo

  • सुधर रहे हालात फिर भी सावधानी जरुरी

नागपुर. कोरोना को लेकर अब पहले की तुलना में हालात सुधरते नजर आ रहे हैं. हर दिन डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की तुलना में पाजिटिव आने वाले कम हो रहे हैं. डाक्टरों सहित प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है, लेकिन अभी भी खतरा टला नहीं है. ठंड के दिनों में एक बार सेकेंड वेव की संभावना व्यक्त की गई है. यही वजह है कि डाक्टरों ने सावधानी और सतर्कता पूर्ववत रूप से बरतने की अपील की है.

मरीजों की संख्या कम होने से सरकारी मशिनरी पर दबाव कुछ हद तक कम हुआ है. लेकिन आईसीएमआर ने ठंड के दिनों में एक बार फिर से कोरोना के जोर पकड़ने की भी संभावना व्यक्त की है. ठंड बढ़ने से सर्दी, जुकाम के मरीज बढ़ सकते हैं. इस हालत में सावधानी बरतते हुए सभी को समय पर टेस्ट कर औषधोपचार लेने की सलाह दी गई है. गुरुवार को 630 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक 78844 मरीजों को छुट्टी दी जा चुकी है. अब जिले में रिकवरी रेट 88.50 फीसदी हो गया है. 

सिटी में 13 की मौत 

गुरुवार को जिले में कुल 23 मरीजों की मौत हो गई. इनमें 2 ग्रामीण, 13 सिटी और 8 अन्य जिलों के रहे. इसके साथ ही अब कुल मृतक 2892 हो गये है. गुरुवार को चौबिस घंटे के भीतर 5682 लोगों की टेस्ट की गई. इनमें सबसे अधिक एंटिजन टेस्ट रही. कुल 588 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई. इसके साथ ही अब तक कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 89087 हो गई है. फिलहाल जिले में कुल 7351 एक्टिव केस है. इनमें अधिकांश मरीज होम आयसोलेशन में उपचार ले रहे हैं. मेयो की लैब में अब भी सबसे अधिक नमूनों की जांच की जा रही है. गुरुवार को 770 नमूनों की जांच की गई. वहीं माफसू की लैब में पिछले सप्ताह से सबसे कम जांच की जा रही है. 

89087 कुल संक्रमित 

2892 की मौत 

78844 हुये ठीक 

588 गुरुवार को पाजिटिव