arrest

  • साइबर सेल की कार्रवाई

नागपुर. देश के साथ सिटी में भी साइबर अपराधियों को आतंक बढ़ते जा रहा है. बढ़ती साइबर आपराधिक गतिविधियों को देखते हुए पुलिस ने इनपर नकेल कसनी शुरू कर दी है. विदेश में नौकरी और अनेक महंगे उपहार दिलाने का झांसा देकर एक महिला से लाखों रूपये ठगने के मामले में साइबर सेल ने बड़ी कार्रवाई करते हुए दिल्ली से नाइजीरियन टोली को दबोचा है. इस कार्रवाई में पुलिस ने दिल्ली निवासी एक व्यक्ति और 4 नाइजीरियन आरोपियों को गिरफ्तार कर नागपुर लाया है.

आरोपियों में पटेल नगर, डी ब्लॉक, द्वारका मोर, न्यू दिल्ली निवासी सुजित दिलीप तिवारी (25), युनियन बैंक समीप बलवंत रोड, चंदर विहार न्यू दिल्ली निवासी मिशेल स्कॉटस कोलाई (23), इदु डॉलर उकेके (32), मोहन गार्डन दिल्ली निवासी इमु संडे अझुडाईके (32) और पिलर गली 795, विपीन गार्डन कोरकोला न्यू दिल्ली निवासी केल्वीन नेके (29) का समावेश है. सभी आरोपियों को न्यायालय ने 19 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत में भेजने की जानकारी एडिशनल सीपी (क्राईम) सुनील फुलारी ने पत्रपरिषद में दी. इस अवसर पर उनके साथ डीसीपी (आर्थिक) विवेक मासाल, साइबर सेल के सीनियर पीआई अशोक बागूल, पीआई राघवेंद्रसिंह क्षीरसागर, एपीआई विशाल माने, हवलदार संजय तिवारी, राहुल धोटे, अजय पवार, दिपक चौहान, बबलू ठाकुर उपस्थित थे.

प्राप्त जानकारी के अनुसार जून महीने में प्लॉट नंबर 20 जय बजरंग सोसाइटी मानवसेवा नगर सेमिनरी हिल्स निवासी आयावान सिंह समसेर सिंह (56) की पत्नी रीना न्यूटन की फेसबूक पर डॅनी मोरेर नामक एक व्यक्ति से हुई. रीना न्यूटन यह सेना से सहायक वैद्यकीय अधिकारी के पद से सेवा निवृत्त है. यह जानने के बाद आरोपी ने डॅनी मोरेर ने उसे कैनेडा में मेडिकल फिल्ड में नौकरी लगाने का झांसा दिया. नौकरी के साथ उसने अनेक प्रकार के महंगे उपहार दिलाने का लालच दिया. इसके लिए उसने महिला से कुल 41,70,000 रुपये की मांग की. उसकी बातों में आकर फरियादी ने उसके 8 अलग-अलग बैंक खातों में कुल 41,70,000  रुपये डाल दिये. ठगी का संदेह होने पर उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई.

18 लाख रूपये जब्त

मामले को गंभीरता से लेते हुए साइबर सेल ने बैंक खातों की जांच की. बैंक में पैसे ट्रान्सफर करने के बाद आरोपियों ने कहां से ट्रान्जेक्शन किये इसका ब्योरा निकाला गया. जांच में पता चला कि सभी आरोपी दिल्ली के है. दिल्ली जाकर सर्वप्रथम पुलिस ने सुजित को हिरासत में लेकर पूछताछ की. इसके बाद न्यू दिल्ली के अनेक इलाकों से नाइजीरियन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. कार्रवाई में उनके पास से विविध बैंकों में जमा करीब 18 लाख रुपये समेत 15 मोबाइल, 18 क्रेडिट कार्ड और नगद 16,040 रुपये जब्त किये गए. 

महिलाए भी करती है मदद

यह नाइजीरियन आरोपियों में से कुछ मोबाईल और कुछ कपड़ा व्यापारी के आड़ में लोगों के साथ धोखाधड़ी करते है. मोहन गार्डन और चंदूर विहार और उत्तम नगर में भारी मात्रा में नाइजीरियन लोग रहते है. आरोपियों ने स्थानीय नागरिकों को कमीशन का लालच देकर कई फर्जी बैंक खाते खोले, सिम कार्ड लिये. कुछ के पास तो मुंबई के सिम कार्ड भी बरामद हुए है. इसके साथ ही आरोपियों ने पश्चिम बंगाल और अन्य राज्यों की महिलाओं से शादी कर उन्हें भी इस अपराध में शामिल कर लिया है. लोगों के फंसाने के लिए पत्नी और दोस्तों के इस्तेमाल किये जाने से इंकार नहीं किया जा सकता. अपराध के लिए आरोपी हमेशा साधे मोबाइल फोन और डब्बा फोन का इस्तेमाल करते थे. पीसीआर में पूछताछ के दौरान और भी ठगी के मामले और गिरोह के अन्य सदस्यों की जानकारी मिलने की संभावना जताई जा रही है.