Golibar Chowk, Rush, parking on Road
File Photo

नागपुर. सिटी के बीचोबीच स्थित सबसे पुराने बाजार क्षेत्रों गांधीबग, इतवारी के हर रोड व गली पर अतिक्रमणकारियों का पूरी दादागिरी से सुनियोजित कब्जा बरकरार है. रोड के बीचोबीच ये ठेला खड़ा कर फल व अन्य सामान बेचते हैं. चुनरी, रूमाल, पायदान आदि बेचने वाले तो सड़क के बीच में दूकान सजाकर खड़े रहते हैं जिससे ट्राफिक जाम आम हो गया है.

इन्हें सख्ती से खदेड़ने की जरूरत है लेकिन मनपा का अतिक्रमण उन्मूलन दस्ता हो या फिर ट्रैफिक पुलिस विभाग, कोई ध्यान नहीं दे रहा है. वल्लभाचार्य चौक, होलसेल क्लॉथ मार्केट, नंगा पुतला चौक सड़क पर ऐसा अतिक्रमण हो रहा है कि पैदल चलना दूभर हो गया है. 

शिकायत पर भी कार्रवाई नहीं

नागरिकों ने तमाम संबंधित विभागों को लिखित में इसकी जानकारी दी है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही है. महिलाओं, बुजुर्गों का यहां पैदल चलना मुश्किल हो रहा है. दोपहर 2 से शाम 6 बजे तक यहां अतिक्रमणकारी, फेरीवालों के साथ-साथ सड़कों के किनारे वाहन पार्किंग करने वालों की ऐसी गड्डमगड्ड होती है कि हालात बिगड़ जाते हैं. गांधीबाग में होलसेल क्लॉथ मार्केट नंगा पुतला चौक से लेकर तीन नल चौक तक अतिक्रमणकारियों का सुनियोजित तरीके से कब्जा हो चुका है. नागरिकों ने पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार से कार्रवाई की मांग की है. 

पाकिटमारी, चेन स्नैचिंग बढ़ी

दोपहर से शाम तक जब भारी भीड़ व जाम का नजारा होता है तो कई संदिग्ध व असामाजिक तत्वों को यहां घूमते हुए देखा जा सकता है. नागरिकों को संदेह है कि इस पूरे परिसर की बड़े पैमाने पर रेकी की जा रही है जो किसी बड़ी वारदात तक पहुंच सकती है. पाकिटमरी और चेन स्नैचिंग की घटनाएं हो रही हैं. हालात बिगड़ रहे हैं.

नागरिकों व स्थानीय दूकानदारों ने मांग की है कि दोपहर 2 से शाम 6 तक एक विशेष दस्ता तैनात किया जाना चाहिए. ट्रैफिक विभाग के कर्मचारी तो यहां नजर ही नहीं आते हैं. शहर के मध्य में कपड़े का सबसे बड़ा होलसेल व रिटेल कपड़ा मार्केट है, जो  विदर्भ का जाना-माना मार्केट है. नागपुर ही नहीं, आस-पड़ोस के शहरों व राज्यों से भी नागरिक यहां पर खरीदारी करने आते हैं.