Corona
File Photo : PTI

  • मनपा, हेल्थ विभाग फिर पड़ा सुस्त

नागपुर. महीने की शुरुआत में जब प्रतिदिन टेस्टिंग करीब 8000 से अधिक होने लगी तो संक्रमितों की संख्या भी बढ़ने लगी थी. स्थिति यह थी कि एक दिन में 2000 से अधिक संक्रमितों की पहचान हो रही थी. जो गंभीर थे उन्हें अस्पताल में भर्ती किया जा रहा था जबकि बिना लक्षण वालों को होम आयसोलशेन की सुविधा दी गई. लेकिन पिछले सप्ताह से पाजिटिव मरीजों की संख्या कम हो रही है. इसकी वजह संक्रमण पर नियंत्रण नहीं बल्कि टेस्टिंग कम होना है. सिटी में मनपा और जिले में सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग की सुस्ती का ही नतीजा है कि अधिकाधिक लोगों की जांच नहीं की जा रही है.

डाक्टरों की माने तो कोरोना वाइरस अक्टूबर में भी अपने पूरे फ्लो में होगा. इसकी मुख्य वजह मौसम का बदलना है. ठंड का मौसम शुरू होने के साथ ही सर्दी, जुकाम और खांसी जैसी संक्रामक बीमारियां आम हो जाती है. कोरोना के एक बार फिर से फैलने की संभावना भी जताई गई है. यही वजह है कि वर्तमान में हर दिन जिले में अधिकाधिक लोगों की जांच आवश्यक है. ताकी संक्रमितों की पहचान कर उनका समय पर उपचार किया जा सके. इससे मृत्यु दर पर भी अंकुश लगाया जा सके. लेकिन वर्तमान में स्थिति विपरीत बनी हुई है. टेस्टिंग दिनोंदिन कम होती जा रही है.

लोग नहीं करा रहे हैं जांच
इस बारे में मनपा और सार्वजनिक स्वास्थ्य विभाग के अलग-अलग तर्क है. अधिकारियों का कहना है कि लोग ही जांच कराने नहीं आ रहे हैं. जबकि निजी और शासकीय अस्पतालों में मरीजों की भीड़ देखकर लगता है कि संक्रमण कम नहीं हुआ है. इसका मतलब साफ है कि यां तो लोग जांच कराने में आनाकानी कर रहे हैं या फिर शासकीय मशीनरी सुस्त पड़ गई है. यह स्थिति ठंड के मौसम के मद्देनजर खतरनाक हो सकती है. पिछले दिनों स्वास्थय मंत्री ने अधिकाधिक लोगों की जांच कराने के निर्देश दिये थे. लेकिन जांच की गति बढ़ने की बजाय कम होने लगी है.

फिर 34 की गई जान
सोमवार को पिछले चौबिस घंटे में जिले में कुल 4193 लोगों की जांच की गई. इसमें 1516 लोगों की एंटिजन टेस्ट की गई. जबकि कुल पाजिटिव 994 आये. इस तरह अब तक जिले में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 75815 हो गई. वहीं 38 मरीजों की मौत हो गई. इनमें 4 मरीज जिले से बाहर के है. यानी जिले में कुल 34 मरीजों की मौत हुई. अब तक जिले में कुल 2438 लोगों की जान जा चुकी है. फिलहाल जिले में 13680 एक्टिव केस है. जो कि दो सप्ताह में सबसे अधिक है. सोमवार को 1431 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. अब तक 59697 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं. अब तक जिले में कुल 437845 लोगों के टेस्ट किये जा चुके हैं.

माफसू की लैब में जांच नहीं
सोमवार को माफसू की लैब में किसी भी नमूने की जांच नहीं की जा सकी. जांच नहीं किये जाने की वजह बताने के लिए कोई भी अधिकारी तैयार नहीं है. पिछले दिनों मेयो में भी जांच कम हुई थी. इसकी वजह डाक्टरों सहित टेक्निशियन का संक्रमित होना बताया गया था.

सिटी में अब तक की स्थिति

75815 कुल संक्रमित

994 सोमवार को पाजिटिव

2438 की मौत

13680 एक्टिव केस

59697 हुये ठीक