scholarship

  • 500 करोड़ का OBC मंत्रालय ने किया प्रावधान
  • 2020-21 सत्र के लिए पोर्टल होगा शुरू

नागपुर. विदर्भ अन-एडेड इंजीनियरिंग कॉलेजेस मैनेजमेंट्स एसोसिएशन द्वारा छात्रवृत्ति की रकम देने को लेकर लगातार की जा रही मांग पर सरकार ने गंभीरता दिखाई है. ओबीसी विभाग के मंत्री विजय वडेट्टीवार ने विमुक्त जाति, भटक्या जाति, विशेष पिछड़ा वर्ग तथा अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रों के लिए 500 करोड़ रुपये का प्रावधान करने का निर्णय लिया है. इस संबंध में वित्त विभाग से भी मंजूरी मिल गई है. अब शैक्षणिक सत्र 2019-20 की प्रलंबित रकम सप्ताहभर के भीतर महाडीबीटी पोर्टल के माध्यम से सभी इंजीनियरिंग, पॉलिटेक्निक, फार्मेसी, बिजनेस मैनेजमेंट, आर्किटेक्चर, कला, वाणिज्य, विज्ञान, वैद्यकीय आदि संकाय के विद्यार्थियों तथा महाविद्यालयों के बैंक अकाउंट में जमा हो जाएगी.

छात्रवृत्ति मिलने में हो रही देरी की वजह से अनेक निजी महाविद्यालयों की मुश्किलें बढ़ गई थीं. स्थिति यह हो गई है कि कई महाविद्यालयों में टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ को 5-6 महीनों से वेतन ही नहीं मिला है. छात्रवृत्ति के पहले चरण की रकम तो मिल गई थी, लेकिन दूसरे चरण के लिए मामला अटका दिया गया था. इतना ही नहीं, छात्रों को मेंटनेंस स्कॉलरशिप के लिए प्रतीक्षा करना पड़ी. कोविड संकट काल में महाविद्यालयों के लिए यह समय मुश्किलभरा रहा. इस संबंध में इंजीनियरिंग, पॉलिटेक्निक कॉलेज संचालकों व पदाधकारियों की बैठक भी हुई. सभी अपने-अपने स्तर पर सरकार तक आवाज पहुंचाने का प्रयास कर रहे थे. 

इस माह से भरे जा सकेंगे आवेदन

दरअसल सरकार की ओर से निधि तो जारी कर दी गई थी, लेकिन वित्त विभाग की मंजूरी नहीं मिली थी. बैठक में बताया गया कि वडेट्टीवार के निर्देश के बाद वित्त विभाग ने निधि को मंजूरी दे दी है. अब जल्द ही दूसरे चरण की छात्रवृत्ति की निधि अकाउंट में जमा हो जाएगी. शैक्षणिक सत्र 2020-21 की छात्रवृत्ति आवेदन हेतु दिसंबर के पहले सप्ताह से महाडीबीटी पोर्टल शुरू कर दिया जाएगा. ताकि रिनिवल ऑफ स्कॉलरशिप के आवेदन भरे जा सकें.

बैठक में संगठन सचिव जुगल माहेश्वरी, जेडी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट के सचिव अजय अग्रवाल, संचालक अविनाश दोरसटवार, मेघे ग्रुप के सयाजी जाधव, रणजीत चाफले, प्रमोद पांपटवार, उदय टेकाड़े, प्रसन्ना तिडके, गिरीश विराणी, संजय भारद्वाज, प्राचार्य संजय बडजाते, प्राचार्य एसएम अली, एएस खान, डॉ. अमोल देशमुख, पीएम तरवटकर, अजय जायस्वाल, संजय मोलोडे, ब्रम्हानंद करंजेकर, जेएफ अग्रवाल, अनिल शर्मा, शीतल वाटिले, एमपी हजारे, संतोष बोरकर, मारोती वाघ, सचिन महावीर, प्रमोद वालमांदरे, एसबी मिरजापुरे प्रमुखता से उपस्थित थे.