ZP School
Representational Pic

नागपुर. कोरोना महामारी के कारण 9 महीने की लंबी छुट्टी के बाद सोमवार से ग्रामीण स्कूलों की घंटी बजने वाली है. भले ही लॉकडाउन में छात्रों की पढ़ाई नहीं रूकी और ऑनलाइन चलती रही, लेकिन अब कोरोना प्रतिबंधित नियमों का पालन करते हुए ग्रामीण स्कूलों में कक्षा 9वीं से 12वीं की पढ़ाई शुरू कर दी गई है. महीनों बाद पहले दिन स्कूलों में दोस्तों की मुलाकात होगी. गर्मी की छुट्टियों के बाद हर वर्ष 26 जून से स्कूल शुरू हो जाती थी लेकिन इस बार कोरोना महामारी ने पूरी दूनिया को रोक दिया.

भले ही शहर की स्कूलें बंद है, लेकिन 14 दिसंबर से ग्रामीण क्षेत्रों में स्कूलों को खोल दिया जाएगा. शुरुआती दौर में ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या कम होने के कारण वहां 23 नवंबर से स्कूलों को शुरू करने का निर्णय जिला प्रशासन ने लिया था, लेकिन स्कूलें सैनिटाइज नहीं होने और अन्य कामकाज के कारण उन्हें 26 नवंबर से शुरू करने पर मुहर लगाई गई थी.

किंतु पालकों की सहमति नहीं होने के कारण यह संभव नहीं हो पाया. बच्चों को स्कूल में भेजने के लिए पालकों को समंतिपत्र भर के देना आवश्यक है. जिला के पालकों का प्रतिसाद नहीं मिलने के कारण अधिकतर जनता ने कोविड -19 को देखते हुए 13 दिसंबर तक स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया था.