Palghar massacre: The RSS chief asked the question, 'What should the police have done?'

  • स्वयंसेवक घर में ही सुनेंगे भागवत का भाषण

नागपुर. कोरोना के संक्रमण के कारण इस वर्ष राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विजयादशमी समारोह का रूप बदल गया है. प्रत्यक्ष कार्यक्रम में न आकर सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत का भाषण अपने-अपने घर में ही सुनने के निर्देश स्वयंसेवकों को मिले हैं लेकिन वे गणवेश न पहनकर पारंपरिक पोशाक पहन सकते हैं. कोरोना के साये के कारण इस बाार प्रतिवर्ष मे समान प्रात्यक्षिक नहीं होंगे.

रेशीमबाग मैदान पर न होते हुए यह समारोह डॉ. हेडगेवार स्मृति मंदिर परिसर में स्थित महर्षि व्यास सभागृह में होगा, जिसमें अतिथि के रूप में किसी को भी आमंत्रित नहीं किया गया है. सिर्फ सर संघचालक डॉ. मोहन भागवत का ऑनलाइन भाषण होगा. सूत्रों के अनुसार सभागृह में सिर्फ 50 व्यक्तियों को ही प्रवेश मिलेगा. इसमें घोष पथक का समावेश रहेगा. भागवत का भाषण सुनने के लिए नियम और ड्रेस कोड तय किया गया है.

ऑनलाइन संबोधन सुनते समय शारीरिक दूरी रखने के निर्देश स्वयंसेवकों को दिए गए हैं. पड़ोसियों को संबोधन सुनने घर में आमंत्रित करने के लिए कहा गया है. बाहरी व्यक्तियों के साथ भाषण सुनने के कारण गणवेश अनिवार्य नहीं है. पारंपरिक पोशाक स्वयंसेवक पहन सकेंगे. आरएसएस के इतिहास में विजयादशमी आयोजन में गणवेश अनिवार्य न होने का यह पहला अवसर है.