1993 बम ब्लास्ट के दोषी मेमन की मौत

नाशिक सेंट्रल जेल में आया हार्ट अटैक

सीने में दर्द की शिकायत होने पर सिविल अस्पताल में किया गया था भर्ती

नाशिक. 1993 में मुंबई में हुए लगातार कई बम ब्लास्ट के दोषी यूसुफ मेमन की नाशिक सेंट्रल जेल में मौत हो गई. इस घटना से अंडरवर्ल्ड में खलबली मच गई है. जेल प्रशासन का कहना है कि यूसुफ मेमन की मौत हार्ट अटैक से हुई है. मेमन का शव धुलिया के सिविल अस्पताल में पोस्टमॉर्टम के लिये भेजा गया है. यूसुफ मेमन अंडरवर्ल्ड डॉन टाईगर मेमन का भाई था. पिछले 2 सालों से यूसुफ  नाशिक सेंट्रल जेल में सजा काट रहा था. शुक्रवार की सुबह अचानक हार्ट अटैक आने से उसकी मौत हो गई. 1993 में मुंबई में हुए बम ब्लास्ट के दोषी यूसुफ मेमन की उम्र 54 साल थी.

अंडरवर्ल्ड में मची खलबली

शुक्रवार 25 जून की सुबह 10 बजे नाशिक सेंट्रल जेल में रहते हुए उसे सीने में दर्द की शिकायत हुई, तब उसे नाशिक के सिविल अस्पताल में उपचार के लिये भरती किया गया. लेकिन हार्ट अटैक के जोरदार झटके के कारण यूसुफ की मौत हो गई. मेमन को 2018 में औरंगाबाद जेल से नाशिकरोड की सेंट्रल जेल भेज दिया गया था. औरंगाबाद जेल से पहले मेमन मुंबई में आर्थर रोड जेल में सजा काट रहा था. 1993 का बम ब्लास्ट उस जमाने का बहुत बड़ा अपराध था, जिसकी गूंज पूरी दुनिया में हुई थी. एक ही दिन में 12 ब्लास्ट किए गए थे, जिसमें कई लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था. भीड़भाड़ वाली इमारतों के पास कार में आरडीएक्स रखकर ये ब्लास्ट किए गए थे. 1993 के इस बम ब्लास्ट में 257 लोगों की मौत हो गई थी, जो देश का  बड़ा अपराध माना गया था.

1993 बम ब्लास्ट की जानकारी

पहला ब्लास्ट : 12 मार्च को दोपहर 1.30 बजे मुंबई के बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की इमारत में हुआ.

दूसरा ब्लास्ट : उसी दिन दोपहर 2.15 बजे नरसी नाथ स्ट्रीट में.

तीसरा ब्लास्ट : 2.30 बजे शिवसेना भवन.

चौथा ब्लास्ट : 2.33 पर एयर इंडिया बिल्डिंग

पांचवां ब्लास्ट : 2.45 बजे सेंच्युरी पार्क

छठा ब्लास्ट : 2.45 बजे माहिम

सातवां ब्लास्ट : 3.05 बजे जवेरी बाजार

आठवां ब्लास्ट : 3.10 बजे सीरॉक होटल

नौवां ब्लास्ट : 3.13 बजे प्लाजा सिनेमा

10वां ब्लास्ट : 3.20 बजे जुहू सेंटॉर होटल

11वां ब्लास्ट : 3.30 बजे सहार एयरपोर्ट

12वां ब्लास्ट : 3.40 बजे सेंटोर होटल, एयर पोर्ट