पहाड़ी से पैर फिसलने से जवान की मौत

मनमाड़. जम्मू-कश्मीर के नवसेरा सेक्टर में तैनात मनमाड़ के समीप अस्तगांव के सुरेश घुगे की पहाड़ी से पैर फिसलने से मौत हो गयी है। घुगे की मौत की खबर आने के बाद उनके जन्म स्थान अस्तगांव समेत समूचे नांदगांव तहसील में शोक की लहर दौड़ गयी। इस समय जम्मू कश्मीर इलाके में जबरदस्त बर्फ़बारी हो रही है, इसलिए घुगे का पार्थिव उनके गांव लाने में दिक्कतें आ रही हैं। उनका पार्थिव कब लाया जायेगा और अंतिम संस्कार कब किया जायेगा, इसका निर्णय सेना के अधिकारी लेंगे, ऐसा उनके करीबी रिश्तेदारों ने बताया है।

एक साल बाद होने वाले थे रिटायर

बताया जा रहा है कि घुगे अगले साल रिटायर होने वाले थे, लेकिन उससे पहले ही देश की सेवा करते हुए उनकी मौत हो गई। प्राप्त जानकारी में अनुसार मनमाड़ से करीब 6 किमी दूरी पर स्थित अस्तगांव के सुरेश घुगे वर्ष 2006 में देश की सेवा एवं रक्षा करने के लिए सेना में भर्ती हुए थे। भर्ती होने के बाद वह मराठा ई बटालियन में कार्यरत थे। बीती रात जम्मू कश्मीर के नवसेरा सेक्टर के पहाड़ी इलाके में गस्त लगाते समय उनका पैर फिसला और वह नीचे गिर गए, जिसके कारण उनके सिर में गंभीर चोट लगी। उन्हें तुरंत मिलिट्री के अस्पताल में दाखिल किया गया, लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी। तड़के सेना के अधिकारी द्वारा घुगे की मौत की खबर उनके परिजनों को दी गयी।

शोक में डूब गांव

खबर सुनते ही मां-बाप, पत्नी और अन्य परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। उधर गांव वालों को भी जब घुगे की मौत की खबर लगी तो समूचा गांव शोक में डूब गया, सुबह सरकारी अधिकारी अस्तगांव पहुंचे और उन्होंने घुगे के परिजनों से मुलाकात करके उन्हें सांत्वना दी। घुगे के परिवार में माता-पिता, पत्नी एव 9 वर्ष की एक लड़की है। वे जम्मू-कश्मीर के नवसेरा में तैनात थे।