वरिष्ठ पत्रकारों के लिए शीघ्र लागू करें पेंशन योजना

  •  पेंशन लागू नहीं करने पर आमरण अनशन
  •  वरिष्ठ पत्रकारों ने दी चेतावनी

धुलिया. जिले के वरिष्ठ पत्रकारों ने सूचना अधिकारी विलास बोडके के माध्यम से आचार्य बालशास्त्री जंभेकर सम्मान योजना के लंबित प्रकरणों का निपटारा कर पेंशन योजना लागू करने की गुहार लगाई है. निकट भविष्य में पेंशन योजना लागू नहीं की गई तो शासन की नीति के खिलाफ वरिष्ठ पत्रकार आमरण अनशन करेंगे, इस तरह की चेतावनी सूचना अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर दी गई.

सूचना अधिकारी को सौंपा ज्ञापन

वरिष्ठ पत्रकारों ने जिला सूचना अधिकारी बोडके को शिकायती ज्ञापन सौंपकर अवगत कराया है कि महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में वरिष्ठ पत्रकारों के लिए पेंशन योजना को प्रशासनिक स्वीकृति दी है .इस संबंध में जारी सरकारी आदेश के अनुसार पेंशन योजना में धुलिया ज़िले से  पात्र आठ वरिष्ठ पत्रकारों ने सम्मान योजना में पेंशन हेतु आवेदन प्रदेश के सूचना व जनसंपर्क महा संचालनालय में किया था. 

अनावश्यक कागजों की मांग

इस प्रकरणों को एक साल तक लंबित रखा गया. उसके बाद कागजों में खामियां बताकर आवेदन को लौटा दिया गया था. अनावश्यक कागजों की मांग की गई है.जिस की पूर्ति करना संभव नहीं है. समाचार पत्र पत्रकारों को नियुक्ति करते वक्त नियुक्ति पत्र नहीं देते हैं. ऐसे में 30 से 35 वर्षों से पत्रकारिता कर रहे पत्रकार नियुक्ति पत्र कहां से लाएं. सरकार ने पत्रकारों को सम्मान योजना से वंचित रखने के लिए योजना के निष्कर्ष और मापदंड अत्यंत कड़े रखे हैं जिसे पूरा करना संभव नहीं है. 

नियमों को करें शिथिल

मापदंडों में शिथिलता कर पत्रकारों को तत्काल पेंशन योजना लागू किए जाने की मांग सूचना अधिकारी बोडके के नाम सौंपे ज्ञापन में राधेश्याम वर्मा रमेश दाने गो पी लांडगे डी बी पाटिल अशोक पाटील नितिन ढके दिलीप विभांडिक बापू ठाकुर ने  की है.सरकार यदि मांगों की पूर्ति नहीं करती है तो व्यापक पैमाने पर 65 वर्ष से अधिक उम्र के पत्रकारों को सरकार की नीति के खिलाफ आमरण अनशन पर बैठने पर विवश होना पड़ेगा इस तरह की चेतावनी दी है.