water

  • मुकणे व गंगापुर बांध से की जाएगी जलापूर्ति

नाशिक. नाशिक शहर को जलापूर्ति करने वाले बांधों में पर्याप्त जल उपलब्ध होने के बाद भी सिडकोवासियों को मनपा जलापूर्ति विभाग में कार्यरत अधिकारियों में  विवाद के चलते जल किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। इस समस्या को लेकर हाल ही में हुई महासभा में सिडको परिसर के नगरसेवकों ने जोरदार हंगामा किया था। इस समस्या को हल करने के लिए महापौर सतीश कुलकर्णी ने बैठक आयोजित की थी, जिसमें सिडकोवासियों को मुकणे और गंगापुर बांध से जलापूर्ति करने का निर्णय लिया गया। साथ ही पाथर्डी स्थित जलकुंभ से इंदिरा नगर और सिडको विभाग के लिए स्वतंत्र पाइप लाइन बिछाने का आदेश महापौर ने दिया। 

जलापूर्ति विभाग के अधिकारियों के बीच विवाद में पिस रहे थे नागरिक

बता दें कि जलापूर्ति विभाग के उपअभियंता रविंद्र धारणकर और गोकुल पगारे के बीच शुरू विवाद के चलते सिडको परिसर के कुछ प्रभागों में पिछले 5-6 दिनों से जलापूर्ति नहीं हो रही थी, जिसे लेकर मनपा की ऑनलाइन महासभा में सिडको के नगरसेवकों ने जमकर हंगामा किया।

इसके बाद महापौर ने इस समस्या को हल करने के लिए बैठक बुलाई थी। इस समय सभागृह नेता सतीश सोनवणे, भाजपा के गुट नेता जगदीश पाटिल, जलापूर्ति विभाग के अधीक्षक अभियंता संदीप नलावडे, कार्यकारी अभियंता शिवाजी चव्हाणके, अविनाश धनाईत, रविंद्र धारणकर, ललित भावसार, शाम बडोदे, चंद्रकांत खाडे, दिपाली कुलकर्णी, रत्नमाला राणे, राकेश दोंदे, भगवान दोंदे, डी। जी। सूर्यवंशी, किरण गामणे, मुकेश शहाणे, छाया देवांग, प्रतिभा पवार, पुष्पा आव्हाड, सुदाम डेमसे, दीपक दातीर सहित इंदिरा नगर और सिडको परिसर के नगरसेवक उपस्थित थे। इस दौरान नगरसेवकों ने अपनी राय रखी।

मुकणे योजना से सिडको ही नहीं बल्कि पंचवटी और नाशिकरोड परिसर में भी जलापूर्ति किए जाने से सिडको परिसर की जलापूर्ति पर विपरीत परिणाम होने से महापौर ने सिडको परिसर को मुकणे के साथ गंगापुर बांध से भी जलापूर्ति करने का आदेश दिया।