No confidence motion against the commissioner

    मालेगांव. मनपा कमिश्नर त्र्यंबक कासार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव (No Confidence Motion) पेश कर उसकी मंजूरी (Approval) के लिए गुरुवार को विशेष सभा का आयोजन किया गया। इस पर मालेगांव (Malegaon) में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। एआईएमआईएम के नगरसेवक डॉ. खालिद परवेज (Corporator Dr. Khalid Parvez) ने पत्रकार परिषद में अपनी भूमिका स्पष्ट करते हुए तटस्थ रहने की घोषणा की है। वहीं, उनकी समर्थक पार्टी जनता दल के मुस्तकीम डिग्निटी ने प्रस्ताव का समर्थन करने की बात कही है। 

    मेयर ताहेरा शेख ने गुरुवार को कमिश्नर कासार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को मंजूरी देने के लिए एक विशेष बैठक बुलाई थी। इससे शहर में राजनीति गरम हो गई है। एआईएमआईएम के नगरसेवक डॉ. खालिद परवेज और जनता दल के मुस्तकीम डिग्निटी ने उर्दू मीडिया सेंटर में अलग-अलग प्रेस कॉन्फ्रेंस की। डॉ. खालिद ने कहा कि सत्तारूढ़ कांग्रेस ने मनपा को ठेकेदारों के माध्यम से लूटा है और कमिश्नर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव उनका पाखंड है।

    सत्तारूढ़ कांग्रेस ने मनपा को लूटा : डॉ. खालिद 

    महापौर ताहेरा शेख और राशिद शेख ने प्रमुख सचिव, शहरी विकास के साथ कमिश्नर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी, उसे वापस ले लिया। डॉ. खालिद ने कहा कि कमिश्नर के खिलाफ आरोप कांग्रेस द्वारा वित्तीय लूट को छिपाने और लोगों की आंखों में धूल झोंकने है। इस संबंध में सेना और भाजपा को अविश्वास प्रस्ताव पर विचार कर मतदान करना चाहिए। अविश्वास प्रस्ताव से पहले दिए गए सभी अनुबंधों को रद्द करना होगा। 

    लोगों की आंखों में धूल झोंकने लाया अविश्वास प्रस्ताव 

    जनता दल की नगरसेवक शान-ए-हिंद, मुस्तकीम डिग्निटी, रिजवान खान और अब्दुल बाकी ने कहा कि वे अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में मतदान करेंगे। कमिश्नर कासार ने निगम को लूटा है। उनकी जांच होनी चाहिए। वाटरग्रेस कंपनी का सफाई अनुबंध, पंप स्टेशन पर पंपों की मरम्मत, वाहनों की खरीदी आदि संदिग्ध है और जनता दल अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में मतदान करेगा।