शेमल्या शबरी घर कुल योजना की हो जांच

पद पर रहते लाभ लेने का लगा आरोप

धुलिया. शिरपुर तहसील के शेमल्या में वर्ष 2018-19 के शबरी घर कुल योजनाओं का लाभ सरपंच, उपसरपंच व अन्य ग्राम पंचायत सदस्यों द्वारा लेने का आरोप लगाते हुए इसकी कड़ी जांच करने की मांग की गई है. इस संबंध में  ज्ञापन जि. प. सीईओ धुलिया, तहसीलदार शिरपुर को सौंपा गया है. शेमल्या के नागरिकों की ओर से दिये गये ज्ञापन में कहा गया है कि वर्ष 2018-19 में ग्राम पंचायत शेमल्या के लिए आदिवासी महामंडल के शबरी आवास योजना शुरू थी. उक्त योजना का लाभ सरपंच, उप सरपंच व ग्राम पंचायत सदस्य लेकर अपने पदों का दुरुपयोग कर सरकार को दिग्भ्रमित किया है. 

सरकार को किया दिग्भ्रमित

लाभ लेने वालों में कैलास कालसिंह पावरा उप सरपंच, वंजारीबाई कालसिंह पावरा ग्रा. पं. सदस्य, कविता कैलास पावरा ग्रा. पं. सदस्य, बदीबाई ठेबडा पावरा सरपंच, डोकऱ्या ठेबडा पावरा सरपंच महिला का बेटा शामिल होने का जिक्र किया गया है. जिनकी जांच कर कड़ी कानूनी कार्रवाई करने की मांग ज्ञापन द्वारा नागरिकों ने की है. उक्त ज्ञापन 26 मई को जिला परिषद सीईओ धुलिया, तहसीलदार शिरपुर, बीडीओ शिरपुर, आदिवासी विकास प्रकल्प धुलिया को सौंपा गया है. किंतु गौरतलब ये है कि अब तक किसी पर कार्रवाई नहीं हुई.