झारखंड में बिना परीक्षा के पास हुए 8 लाख विद्यार्थी

    ओमप्रकाश मिश्र 

    रांची. माध्यमिक शिक्षा निदेशालय के निदेशक हर्ष मंगला ने झारखंड (Jharkhand) में कोरोना (Corona) की भयावहता को देखते हुए गुरुवार को नौंवी और 11वीं कक्षा की परीक्षा में शामिल होने वाले आठ लाख विद्यार्थियों (Students) को परीक्षा में शामिल हुए बिना ही पास करने की घोषणा कर दी है। गौरतलब है की नौवीं की परीक्षा में 4.50 लाख और 11वीं की परीक्षा में 3.50 लाख विद्यार्थी परीक्षा (Exam) में शामिल होने वाले थे। नौवीं और 11वीं कक्षा के 8 लाख विद्यर्थियों को बिना परीक्षा के ही पास घोषित कर उन्हें सीधे अगली कक्षा के लिए प्रोन्नत कर दिया गया  है। 

    9वीं कक्षा के परीक्षा में शामिल होने के लिए 4.50 लाख और कक्षा 11वीं की परीक्षा में शामिल होने के लिए 3.50 लाख परीक्षार्थियों ने आवेदन जमा किया था। निदेशक हर्ष मंगला ने बिना परीक्षा में शामिल हुए ही विद्यार्थियों को पास किए जाने के सम्बन्ध में आदेश जारी कर दिया है। जारी किए गए अपने आदेश में निदेशक ने कहा है कि सत्र 2021-22 के शुरू हुए लगभग दो महीने बीत चुके है। राज्य में कोविड के कारण जो हालात हैं इसे देखते हुए अगले दो महीने तक स्कूल खुलने की संभावना नहीं दिख रही है। ऐसी स्थिति में अगर इन्हें अगली कक्षा में प्रोन्नत नहीं किया गया, तो 10वीं और 12वीं के सिलेबस को समय से पूरा करने में परेशानी होगी। उन्होंने कहा कि यह आदेश केवल इसी साल के लिए प्रभावी होगा। कक्षा 9वीं व 11वीं के विद्यार्थियों को अगले वर्ष होनेवाली मैट्रिक व इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा में शामिल होना है।

    राज्य में 17 मार्च 2020 से विद्यालय बंद

    राज्य में इससे पूर्व सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले कक्षा आठ तक के बच्चों को अगली कक्षा में बिना परीक्षा के ही प्रोन्नत किया जा चुका है। कोविड-19 के संक्रमण के कारण राज्य में 17 मार्च 2020 से विद्यालय बंद है। सत्र शुरू होने के दो महीने बाद भी विद्यार्थी अगली कक्षा में प्रोन्नत नहीं हो सके हैं। माध्यमिक शिक्षा निदेशालय के निदेशक ने नौवी और 11वीं कक्षा के विद्यार्थियों को बिना परीक्षा में शामिल हुए ही पास करने के लिए सभी जिलों के उपायुक्तों और सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को पत्र जारी कर दिया है। पत्र में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी के कारण पूर्व शैक्षणिक सत्र में गत वर्ष मार्च महीने से सिमित अवधि को छोड़कर सभी विद्यालय बंद है। फलस्वरूप उक्त कक्षाओं का भौतिक संचालन नहीं हो सका है। ऐसी परिस्थिति में झारखंड अधिविद द्वारा सत्र 2020-21 में वर्ग 9 एवं 11 में नामांकित विद्यार्थियों की प्रोन्नति के लिए परीक्षा का आयोजन नहीं किया जा सका है। ऐसी स्थिति में दोनों कक्षाओं के विद्यार्थियों की प्रोन्नति को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है और चूंकि मध्य विद्यालयों में ऐसी ही परिस्थिति को ध्यान में रखकर 1 से 8 वर्ग के सभी विद्यार्थियों को पास कर दिया गया है। इसी तर्ज पर समय पर परीक्षा आयोजित नहीं हो पाने के कारण नौवीं और 11वीं कक्षा के विद्यार्थियों को भी बिना परीक्षा में शामिल हुए उतीर्ण घोषित कर दिया गया है।