पुणे शहर सहित जिले में  ‘मुंबई पैटर्न’अपनाएं

पु- राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे का प्रशासन को निर्देश

पुणे. कोरोना पर नियंत्रण के लिए मुंबई शहर की तर्ज पर पुणे शहर सहित पूरे जिले में ‘मुंबई पैटर्न’अपनाएं. उक्त निर्देश राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने प्रशासन को दिए. टोपे ने कहा कि पुणे शहर सहित  जिले में कोरोना की टेस्टिंग में वृद्धि के कारण दिन- ब-दिन कोरोना मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है. उस पर नियंत्रण पाने के लिए मुंबई शहर की तर्ज पर पुणे में भी उपाय करने की जरूरत है. मुंबई महानगरपालिका ने निजी अस्पतालों के बेड्स आरक्षित करा लिए हैं. 

उस अस्पताल में एक जिम्मेदार अधिकारी की नियुक्ति की है. उस अधिकारी ने अस्पताल  प्रबंधन की मदद से एक फ्लोचार्ट बनाएं. उस अस्पताल में  कितने बेड्स उपलब्ध हैं, उसमें आयसीयू के  बेड, वेंटीलेटर बेड्स, पीपीई किट, मास्क आदि का उल्लेख करें. ताकि नागरिकों को उसका लाभ मिल सके. कोरोना मरीजों से अधिक पैसे लेनेवाले व सरकारी निर्देशों का पालन न करनेवाले निजी अस्पतालों पर कार्रवाई करने के निर्देश उन्होंने दिए. साथ ही महात्मा फुले जन आरोग्य योजना के अंतर्गत मरीजों का मुफ्त इलाज कराएं.

कोरोना की टेस्टिंग का प्रमाण बढाएं : शरद पवार

शहर में बढ़ रहे  कोरोना संक्रमण के प्रसार को ध्यान में रखते हुए राकां सुप्रीमो शरद पवार ने शुक्रवार को स्मार्ट सिटी के वॉर रुम का दौरा किया. उन्होंने शहर में कोरोना की स्थिति का जायजा लिया. पवार ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के मार्गदर्शक निर्देशों के अनुसार  कार्यवाही करने व कोरोना की  टेस्टिंग का प्रमाण बढ़ाने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि शहर के प्रतिबंधित क्षेत्र की नियमित समीक्षा लें. निजी अस्पतालों में कोरोना के मरीजों से उपचार के अधिक पैसे नहीं लें, इसके लिए जरूरी र्यवाही प्रशासन करे, ऐसा पवार ने कहा. इस समय पवार ने महापालिका तथा स्मार्ट सिटी द्वारा कोरोना को लेकर विकसित कंप्यूटर  प्रणाली की जानकारी ली. 

वॉर रूम में चलता रहता है निरंतर काम 

अतिरिक्त आयुक्त व स्मार्ट सिटी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रुबल अग्रवाल ने बताया कि इस वॉर रूम में निरंतर काम चलता रहता है. बेड की उपलब्धता, भविष्य में लगनेवाले बेड्स, डॉक्टर की संख्या इस डैश बोर्ड पर दिखाई पड़ती है. इसके कारण तत्काल कार्यवाही करना आसाना होता है. इस समय स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे, गृहमंत्री अनिल देशमुख, महापौर मुरलीधर मोहोल, महापालिका आयुक्त शेखर गायकवाड, आरोग्य प्रमुख डॉ. रामचंद्र हंकारे, सहायक आरोग्य अधिकारी डॉ. संजीव वावरे, डॉ. वैशाली जाधव उपस्थित थे.