एक महीने में पूरी क्षमता से दौड़ेंगीं बसें!

  • प्रशासन की तैयारी शुरू

पुणे. यात्रियों की संख्या में लगातार हो रही वृद्धि को ध्यान में रखते हुए अगले एक से डेढ़ महीने में पूरी क्षमता से बसों को रूट पर चलाने का प्रबंधन पीएमपीएमएल द्वारा किया जा रहा है. लॉकडाउन के बाद सितंबर के पहले सप्ताह में पीएमपी की बस सेवा शुरू की गई है. इस सेवा का लाभ तीन लाख से ज्यादा यात्री उठा रहे हैं. 

पिछले कुछ दिनों में यात्रियों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है. यात्रियों की संख्या का ब्यौरा लेकर विभिन्न रूट्स पर बसों की संख्या बढ़ाई जा रही है.

190 रूट्स पर 921 बसों का परिचालन जारी  

राज्य सरकार के अनलाक-4 के नियमों के अनुसार,, मनपा ने शहर की सार्वजनिक यात्री बस सेवा शुरू करने की परमिशन दी है. उसके अनुसार 3 सितंबर से पीएमपी ने 190 रूट्स पर 421 बसों के जरिए सेवा शुरू है. उसके बाद 2 नवंबर को पीएमपी की प्रतिदिन यात्रियों की संख्या 3 लाख तक पहुंच गई. जिससे 43 लाख रुपए की इन्कम हुई. 17 नवंबर को पीएमपी को एक दिन में टिकट और पास की बिक्री से 50 लाख रुपयों की इन्कम मिली. दो नवंबर को एक हजार 92 बसें रूट पर चलीं. उनके जरिए शहर में 14 हजार 513 राउंड लगाए गए. 

यात्रियों की संख्या में हो रही वृद्धि

दिवाली के दौरान बड़ी संख्या में नागरिकों के शहर से बाहर अपने मूल गांव जाने से पीएमपी की यात्री संख्या घटी थी. जिससे रूट पर बसों की संख्या कम की गई. लेकिन 17 नवंबर को यात्रियों की संख्या में अचानक वृद्धि हो गई. उस दिन रूट पर 921 बसें चली. जिन्होंने  13 हजार 210 राउंड लगाए.

दिवाली में मिला बूस्टर

पहले से घाटे में चल रही पीएमपी को कोरोना संक्रमण और लाकडाउन के कारण और बड़ा झटका लगा. मार्च से बंद की गई यात्री सेवा सितंबर में पूर्ववत हो गई. हर वर्ष दिवाली में इन्कम में वृद्धि होती है, इस बार भी वृद्धि हुई मगर कम हुई. फिर भी वह पीएमपी को बूस्टर दिलाने में अच्छी साबित हुई. 17 नवंबर को पीएमपी को 49 लाख 77 हजार रुपए की इन्कम हुई. 18 नवंबर को 49 लाख 35 हजार रुपए की इन्कम मिली. जिससे पीएमपी को थोड़ी राहत मिली है. अब स्थिति पूर्ववत होने का सभी को इंतजार है.