13 new patients, 521 total positive, Corona entry in Rampuri camp

पिंपरी. लॉकडाउन के शिथिल करने के बाद से पिंपरी-चिंचवड़ शहर में लगातार बढ़ रही कोरोना के मरीजों की संख्या कम होने का नाम नहीं ले रही है.बुधवार को सत्तादल भाजपा की नगरसेविका के पति जो खुद भी नगरसेवक रह चुके हैं, के साथ नए से 43 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है.इसके बाद शहर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 1373 तक पहुंच गया है.आज इस महामारी की चपेट में एक और मरीज आया गया है जिसके बाद कोरोना से मरनेवालों की संख्या 44 हो गई है.

हालांकि इसमें 20 मरीज पुणे और अन्य आसपास के इलाकों के थे, जिनका पिंपरी-चिंचवड़ के अस्पतालों में इलाज चल रहा था.राहत की बात यह है कि आज 38 मरीज स्वस्थ होकर अस्पताल से घर लौट गए हैं.

43 नए मरीज मिले

पिंपरी-चिंचवड़ मनपा स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक, शहर में आज 15 महिलाओं समेत कुल 43 मरीजों की कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है. इसमें एक भूतपूर्व नगरसेवक भी शामिल है. इसके अलावा आज पुणे के वडग़ांव शेरी, येरवडा, कोथरुड, आंबेगांव रोड और खेड़ के म्हालुंगे की निवासी की दो महिलाओं समेत छह मरीजों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव मिली है, जिनका पिंपरी-चिंचवड़ के अस्पतालों में इलाज चल रहा है. उनके समेत कुल 40 मरीजों का पिंपरी-चिंचवड़ के अस्पतालों में इलाज चल रहा है. 

38 मरीज डिस्चार्ज

आज नए से शहर के 38 मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज दिया गया है.उनके अलावा गैर पिंपरी चिंचवड़ वासी एक मरीज, जिसकी इलाज के बाद कोरोना टेस्ट की दोनों रिपोर्ट निगेटिव मिली है, को भी अस्पताल से घर छोड़ा गया है. आज मोशी के नागेश्वरनगर रहवासी निवासी एक 60 वर्षीय कोरोना बाधित बुजुर्ग महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई है.इसके बाद पिंपरी चिंचवड़ शहर में कोरोना से मरनेवालों का आंकड़ा 44 तक पहुंच गया है.इसमें 20 मरीज पुणे और अन्य क्षेत्रों के रहवासी थे.अब तक मिले कुल 1373 संक्रमितों में से 829 पिंपरी चिंचवड़वासी और 95 गैर पिंपरी चिंचवड़वासी मरीज कोरोना मुक्त हुए हैं.

मास्क का इस्तेमाल करे

फिलहाल शहर के अस्पतालों में कुल 513 मरीजों का इलाज जारी है.इसके अलावा पुणे में पिंपरी चिंचवड़ के आठ मरीजों का इलाज जारी है.बहरहाल मनपा की ओर से आगाह किया गया है कि बरसात के मौसम में फ्लू बढ़ने की संभावना है.ऐसे में जुकाम, खांसी, बुखार के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं. ठीक होने तक बाहर न निकलें. मास्क का इस्तेमाल अनिवार्यतः करें.